बीकानेर रीट परीक्षा केन्द्र पर चप्पल में ब्लूटूथ डिवाइस से नकल करते हुए गिरोह पकड़ा

- चप्पल गिरोह के 6 लोगो को पुलिस ने दबोचा
- 25 लोगो को चप्पल बेचने की बात आई सामने
- 6 लाख में बेचीं गई एक चप्पल
 
बेचीं गई एक चप्पल

बीकानेर। राजस्थान में रीट परीक्षा के साथ नकल गिरोह भी सक्रिय हो गए हैं। रविवार को परीक्षा शुरू होते ही प्रदेश में अलग-अलग जगह की गई कार्यवाही में नकलचियों को गिरफ्तार किया गया। इस बीच बीकानेर में अनोखा मामला सामने आया है, यहां अभ्यर्थियों को ब्लूटूथ डिवाइस लगी चप्पल देने वाले 5 लोगों को पुलिस ने पकड़ा है।

बीकानेर के गंगाशहर में की गई कार्यवाही दोरान आरोपी चप्पल में डिवाइस लगाकर अभ्यर्थियों को नकल करा रहे थे। शुरुआती जांच में सामने आया कि आरोपियों ने डिवाइस लगी चप्पल करीब 6 लाख रुपए में अभ्यर्थियों को बेची थी।

ब्लूटूथ डिवाइस लगी चप्पल

पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा ने बताया कि चार युवकों को गिरफ्त में लिया गया है। जो चप्पल में डिवाइस लगाकर सेंटर पर नकल कराने की कोशिश कर रहे थे। इनसे कई महत्वपूर्ण उपकरण भी मिले हैं, जो नकल में काम आते हैं। यह कार्रवाई गंगाशहर पुलिस और डीएसटी टीम ने संयुक्त रूप से की है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र सिंह इंदोरिया ने बताया कि गिरफ्तार युवकों ने डिवाइस लगी चप्पलें तैयार की थीं। जिनसे पता लगाया जा रहा है कि इन्होंने किस-किस स्टूडेंट्स को चप्पल देकर परीक्षा केंद्रों पर भेजा है। पुलिस ने चुरू निवासी ओम प्रकाश, मदन, त्रिलोक और गोपाल नामक चार युवकों को पकड़ा है।  वहीं एक आरोपी तुलसीराम कलेरा को नामजद किया गया है। जो पहले भी नकल के एक मामले में गिरफ्तार हो चुका है। कलेरा बीकानेर में कोचिंग संस्थान चलाता था।

चप्पल करीब 6 लाख रुपए में अभ्यर्थियों को बेची

बीकानेर में गंगाशहर थाना पुलिस और डीएसटी ने संयुक्त कार्रवाई कर चप्पल गिरोह को पकड़ा है। पकड़े गये चप्पल गिरोह के सरगना तुलछीराम कालेर से पुलिस पूछताछ कर रही है। यहां इस कालेर समेत पकड़े गये पांच लोगों में एक सरकारी स्कूल का लैब असिस्टेंट है। वहीं तीन परीक्षार्थी पकड़े गये हैं। इन तीन परीक्षार्थियों में एक महिला परीक्षार्थी भी शामिल है। एएसपी शैलेन्द्र इंदोरिया सहित पुलिस अधिकारी पूरे मामले की जांच में जुटे हैं।

अजमेर में एक गिरफ्तार
अजमेर जिले के किशनगढ़ के तेली मोहल्ला स्थित आचार्य धर्मसागर स्कूल में एक नकलची पकड़ा है। बताया जा रहा है कि अभ्यर्थी ब्लू टूथ डिवाइस के माध्यम से नकल का प्रयास कर रहा था। चुरू निवासी अभ्यर्थी बीकानेर में कोचिंग चलाता है। सेन्टर के अन्दर ही पुलिस पूछताछ कर रही है।