मोबाइल, सीमेंट व सरिया व्यापारियों के प्रतिष्ठान पर वाणिज्य कर विभाग कि सर्वे कार्यवाही में करोड़ों के GST चोरी की आशंका

 
There is a possibility of GST theft of crores in the survey proceedings of the Commercial Tax Department on the establishment of mobile, cement and baria traders.
अलवर। जीएसटी चोरी करने वाले दो व्यापारियों के प्रतिष्ठान पर वाणिज्य कर विभाग की टीम (Commerce tax department team on establishment of two traders who evaded GST) ने बुधवार को सर्वे की कार्रवाई (survey action) शुरू की। इसमें एक अलवर शहर का मोबाइल कारोबारी (mobile businessman of alwar city) व दूसरा किशनगढ़बास का सीमेंट व सरिया व्यापारी शामिल (Cement and rebar traders of Kishangarhbas included) है। दोनों व्यापारी कई सालों से सरकार को जीएसटी नहीं दे रहे थे, जबकि करोड़ों रुपये का कारोबार कर रहे हैं। इसके अलावा व्यापारियों की तरफ से आईटीसी क्लेम भी लिया जा रहा है। सर्वे की कार्रवाई बुधवार देर शाम तक जारी रही।

वाणिज्य कर विभाग के मुख्यालय ने ऐसे व्यापारियों की एक सूची तैयार की है, जो सरकार से आईटीसी क्लेम ले रहे हैं, जबकि सरकार को जीएसटी नहीं दे रहे हैं। जिले मे भी बड़ी संख्या में ऐसे व्यापारी हैं।

वाणिज्य कर विभाग के अतिरिक्त आयुक्त प्रशासन पूरणमल के निर्देश पर बुधवार को दो टीमों का गठन किया गया। एक टीम अलवर शहर में रोड नंबर 2 स्थित नामी मोबाइल व्यापारी के सर्वे की कार्रवाई कर रही है तो दूसरी कंपनी किशनगढ़बास में सीमेंट व सरिया कारोबारी के यहां जांच पड़ताल कर रही है। 

जीएसटी की टीम जब व्यापारी के प्रतिष्ठान पर पहुंची तो उस समय लाखों का माल ट्रक से उतर रहा था, उसको भी जांच पड़ताल में शामिल किया गया है। यह प्रक्रिया काफी देर तक जारी रही है। विभाग के अधिकारियों ने कहा कि करोड़ों की जीएसटी चोरी मिलने की उम्मीद है।

अतिरिक्त आयुक्त प्रशासन पूरणमल ने कहा कि आगे भी यह प्रक्रिया जारी रहेगी। जीएसटी नहीं देने वाले व जीएसटी की चोरी करने वाले व्यापारी व कारोबारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सर्वे की प्रक्रिया में लगी एक टीम में उपायुक्त ओम प्रकाश, सहायक आयुक्त प्रहलाद राम और मीनाक्षी चौहान शामिल हैं, जबकि दूसरी टीम में सहायक आयुक्त अविनाश महर्षि व सहायक आयुक्त मुकेश गॉड और बृजलाल मीणा शामिल हैं।