राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक से प्रदेश में तैयार हो रही नयी खेल संस्कृति - मुख्यमंत्री

राज्य में लागू होगा ‘राइट टू हेल्थ’ एक्ट, सामाजिक सुरक्षा में राजस्थान बना सिरमौर 
 
New sports culture being prepared in the state from Rajiv Gandhi Rural Olympics - Chief Minister

बूंदी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) ने कहा कि आमजन को इलाज का अधिकार (right to medical treatment) देने के लिए राज्य सरकार ‘राइट टू हेल्थ’ एक्ट (State Government 'Right to Health' Act) लाने जा रही है। राजस्थान देश में पहला राज्य होगा, जहां प्रदेश के हर व्यक्ति को उपचार के लिए अधिकार मिलने जा रहा है। गहलोत शुक्रवार को नैनवां में राजीव गांधी ग्रामीण ओलपिंक के ब्लॉक स्तरीय प्रतिगिताओं के समापन (Concluding the block level competitions of Rajiv Gandhi Rural Olympics in Nainwan) समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। 

New sports culture being prepared in the state from Rajiv Gandhi Rural Olympics - Chief Minister

ग्रामीण ओलपिंक अद्भुत आयोजन 
उन्होंने कहा राज्य में आयोजित राजीव गांधी ग्रामीण ओलपिंक का आयोजन अद्भुत है। देश में एक नई पहल शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि ओलपिंक खेलों में देश और प्रदेश का नाम पूरी दुनिया में हो। ओलपिंक, एशियाड और कामनवेल्थ खेलों में देश को बड़ी संख्या में मेडल मिले। आने वाले समय में राजस्थान की यह पहल रंग लाएगी।

खेलों के माध्यम से सरकारी नौकरी, पेंशन का भी प्रावधान 
गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ने खिलाडियों को खेल में कॅरियर बनाने के अवसर प्रदान किए हैं। सरकारी नौकरियों में खिलाडियों को आरक्षण, अवार्ड प्राप्त करने वाले 229 प्रतिभावान खिलाडियों को आउट आफ र्टन नौकरी देने के साथ ही कोच और खिलाडियों के लिए पेंशन का भी प्रावधान कर दिया हैं। राज्य सरकार ने अब अवार्ड की राशि को बढ़ाकर एक से 3 करोड़ कर दिया है। ओलपिंक खेलों में बडी तादाद में जन सैलाब उमडा है। इस पहल को प्रदेशवासियों ने मिलकर कामयाब बनाया है। इसके लिए सभी को बधाई। 

New sports culture being prepared in the state from Rajiv Gandhi Rural Olympics - Chief Minister

राजस्थान में प्रतिभा भरपूर 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में प्रतिभा है, प्रतिभा की कमी नहीं है। उनकी खोज इन प्रतियोगिताओं के माध्यम से हो रही है और तराशने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि खिलाडियों को अच्छे कोच और मैदान उपलब्ध करवाए जाएंगे। हर पंचायत में खेल मैदान हो, जिले में सुविधायुक्त स्टेडियम हो, इसके लिए प्रयास किए जा रहे है। खेलों में राजस्थान सरकार तेजी से आगे बढ़ना चाहती है। जो माहौल ओलपिंक खेलों से बना है, उसके अभूतपूर्व परिणाम आऐगे। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार ऐसा आयोजन हो रहा है जिसमें 30 लाख खिलाडी मैदान में उतरे है। इनमें 10 लाख महिलाएं भी शामिल है।

गहलोत ने कहा कि ओलपिंक खेलों में दादा-पोता, बुजुर्ग-युवा, बच्चे बच्चियां साथ खेल रहे है। खो-खो, कब्बड्डी, वॉलीबाल सहित 6 खेलों में ओलपिंक का आयोजन करवाया गया है। अगली बार यह संख्या दुगुनी होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियेां ने भी बच्चों को खूब हौंसला दिया। आने वाले समय में हमारे बच्चों का स्वास्थ्य अच्छा बने और यह खेल के मैदान में ही संभव है।

चिरंजीवी योजना एक, फायदे अनेक   
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में सिर्फ राजस्थान ही एक मात्र ऐसा राज्य है, जहां राज्य सरकार चिरंजीवी बीमा योजना के माध्यम से आम प्रदेशवासियों को 10 लाख का बीमा दिया जा रहा है। इसके अलावा 5 लाख रूपए का दुर्घटना बीमा कवर भी अलग से मिल रहा है। उन्होंने कहा कि योजना में लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट के इलाज की भी सुविधा अलग से शामिल है।  

उन्होंने कहा कि शीघ्र ही राज्य सरकार एक करोड़ 35 लाख महिलाओं को एक स्मार्ट फोन और तीन साल की इंटरनेट की सुविधा मुहैया करवाने जा रही है। स्मार्ट फोन से बच्चे ऑन लाइन पढाई कर सकंेगे। साथ ही सरकारी योजनाओं का लाभ इनके माध्यम से लिया जा सकेगा। इसके अलावा राष्ट्रीय और अर्न्तराष्ट्रीय जानकारी से आमजन रूबरू हो सकेगा। 

सामाजिक सुरक्षा में राजस्थान सिरमौर 
 गहलोत ने कहा कि सामाजिक सुरक्षा के तहत समाज के बुजुर्ग, विधवाओं और  विषेश योग्यजनों को पेंषन एक करोड लागों को पेंशन देकर सामाजिक सुरक्षा में राजस्थान सिरमौर बना है। 

हमारा मकदस सकारात्मकता के साथ आगे बढना हैं। इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए राज्य में गुड गर्वर्नेसं देने का हर संभव प्रयास किया है। हमारी हर योजना बेमिसाल है। मानीवय दृष्टिकोण रखते हुए ओल्ड पेंशन स्कीम लागू कर युवाओं का भविष्य सुरक्षित किया है। साथ ही स्वास्थ्य के लिए आरजेएसएस स्कीम भी राज्य सरकार लेकर आई है।  उन्होंने कहा कि ईआरसी से राजस्थान के 13 जिलों को लाभ मिलेगा। इसको लागू करवाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष राज्य के कई जिलों में बारिश ज्यादा हुई है। गिरदावरी का कार्य जल्दी करवाकर किसानों को राहत दिलाने का प्रयत्न किया जा रहा है।

किसानों की खुशहाली के लिए अलग बजट 
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के लिए अलग से कृषि बजट लाकर राज्य सरकार ने उनकी खुशहाली की नवीं रखी। बिजली की भरपाई के लिए एक-एक हजार रूपए दिए जा रहे है। उन्होंने कहा कि 50 यूनिट फ्री होने से 45 लाख परिवारों के बिजली का बिल शून्य कर राहत दी जा रही है।  

गहलोत ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में राज्य सरकार ने कार्य करते हुए बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 500 बालिकाऐं होने पर एक कॉलेज खोलने का ऐतिहासिक निर्णय लिया है। इसके तहत अब तक राज्य में कॉलेज 90 खोले गए है।

देई अस्पताल में 50 बेड का, नैनवां में कृषि गौण मंडी की सौगात 
मुख्यमंत्री ने देई अस्पताल में बेडों की संख्या 30 से बढ़ाकर 50 करने की घोषणा की। इससे क्षेत्र के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिलेगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नैनवां में कृषि गौण मण्डी के लिए 50 बीघा भूमि के आवंटन का आदेश भी सौंपा। कृषि गौण मंडी के भूमि आवंटन से किसानों और व्यापारियों को राहत मिलेगी।

खिलाडियों का बढ़ाया हौंसला 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नैनवां के हायर सैकेण्डरी स्कूल मैदान पर आयोजित बालिका वर्ग के कब्बड्डी मैच का अवलोकन किया इस दौरान उन्होंने दोनों टीमों में शामिल बालिकाओं की हौसला अफजाई भी की। 

युवा मामले, खेल तथा सूचना एवं जन संपर्क राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि राज्य सरकार ने खिलाडियों की बेहतरी के लिए कई फैसले लिए हैं। राज्य सरकार ने हिण्डोली-नैनवां क्षेत्र के चहुमुंखी विकास में कोई कमी नहीं रखी है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में राजस्थान का खेल मॉडल सबसे बढिया है। इसके तहत 500 से अधिक खिलाडी सरकारी नौकरियों पा चुके है। फिट राजस्थान-हिट राजस्थान के निर्माण की राह ग्रामीण ओलपिंक से आसान हुई है। राज्य के कौने-कौने में खेलों वातावरण निर्माण हो रहा है।
 
कार्यक्रम में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरिवास ने कहा कि राज्य में आयोजित ग्रामीण ओलपिंक ने जाति, धर्म, सम्प्रदाय के भेद को मिटाते हुए एक मिसाल कायम की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना में आमजन को दवाईयां उपलब्ध करवाई जा रही है। राज्य सरकार ने डेढ लाख युवाओं को रोजगार देने के साथ युवाओं को बेरोजगार भत्ता उपलब्ध कराया। कोरोना के समय में राज्य सरकार ने बेहतरीन इलाज और प्रबंधन से आमजन की सेवा में कोई कसर नहीं रखी। 

पूर्व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा ने कहा कि ओलपिंक खेलों से प्रदेश में बच्चों के साथ ही आमजन में भी आपसी भाईचारा बढ़ा है। प्रतियोगिताओं में विजेता खिलाडियों को भी प्रोत्साहन मिले। राज्य सरकार ने एक से बढ़कर एक फ्लेगशिप योजनाओं से आमजन के जीवन स्तर को बेहतर बनाया है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा की तर्ज पर शहरी क्षेत्र में हर हाथ को काम दिलाने के लिए इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना लागू की है। 

कार्यक्रम में जिला प्रमुख श्रीमती चन्द्रावती कंवर, पूर्व वित राज्यमंत्री हरिमोहन शर्मा, पूर्व विधायक सीएल प्रेमी, सूर्यकुमार जैन, पूर्व जिला प्रमुख राकेश बोयत, आईजी कोटा प्रसन्न कुमार खमेसरा जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी, जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणजन मौजूद रहे।