सुकेत चर्चित रेप केस के 14 दोषियों को 20 साल, 2 को 4-4 की सजा, 170 पेज का फैसला सुनाया

- नाबालिग से 9 दिन तक रेप, 31 आरोपी किये थे गिरफतार, 1750 पन्नों में दरिंदगी की दास्तान लिखी गई।
 
सुकेत चर्चित रेप केस के 14 दोषियों को 20 साल, 2 को 4-4 की सजा

कोटा । सुकेत थाना इलाके की 15 साल की एक नाबालिग से 9 दिन तक रेप के मामले में शनिवार को कोर्ट ने 16 आरोपियों को सजा सुनाई। इस मामले में युवती और एक युवक को 4-4 साल और 14 आरोपियों को 20-20 साल की सजा सुनाई है।

आरोपियों में एक युवती भी शामिल है। युवती ही नाबालिग को आरोपियों तक ले गई थी। इससे पहले हुई बहस में पोक्सो कोर्ट के जज अशोक चौधरी ने रेप के 28 आरोपियों में से 16 को दोषी करार दिया। 12 को बरी किया। कोर्ट ने इस मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि कोर्ट समय रहते झालावाड़ पुलिस काम करती तो घटना नहीं होती। क्योंकि पीड़िता के साथ पहले भी रेप हो चुका था। कोर्ट ने इसे गैंग रेप की श्रेणी में नही माना। क्योंकि आरोपियों ने अलग-अलग जगह पर पीड़िता के साथ रेप किया। कोर्ट ने दुष्कर्म की घटना को गम्भीर माना। पीड़िता के 164 के बयान को सॉलिड ग्राउंड मानते हुए 170 पेज का फैसला सुनाया है। 

6 मार्च को सुकेत कस्बे की 15 साल की नाबालिग ने थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया था कि 25 फरवरी को उसकी पहचान की लड़की और उसका साथी उसे बैग दिलाने के बहाने झालावाड़ ले गए थे। वहां उसे कुछ बदमाशों के हवाले कर दिया। डेढ़ दर्जन बदमाशों ने झालावाड़, गागरोन ले जाकर 9 दिन तक उसके साथ कई बार रेप किया। शिकायत के बाद पुलिस ने 3 महिला समेत 31 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इनमें 4 नाबालिग थे। मामले में लापरवाही बरतने पर सुकेत थाना एसएचओ को लाइन हाजिर व एक एएसआई को सस्पेंड कर दिया था। 

पुलिस ने इस मामले में 7 मई को 27 आरोपियों के खिलाफ पोक्सो कोर्ट में चालान पेश किया था। लगभग 1750 पन्नों में दरिंदगी की दास्तान लिखी गई। 27 आरोपियों में से 25 झालावाड़ जिले के हैं। जबकि 2 कोटा जिले के निवासी है। नाबालिग ने बताया था कि 25 फरवरी को सुकेत की बुलबुल और चौथमल मुझे बैग दिलाने के बहाने झालावाड़ ले गए। वहां एक पार्क में कुछ लड़के बैठे थे। उनका नाम मुझे बाद में पता चला। नब्बू, सोनू (नाबालिग का बदला नाम) और एक था, जिसे बुलबुल उस्ताद बुलाती थी। नब्बू स्कूटी से मुझे एक कमरे पर ले गया, रात का वक्त था। मोहल्ले वालों ने हंगामा कर दिया। इस पर नब्बू मुझे अकेला छोड़कर भाग गया। लोगों ने मुझे पकड़ लिया, पुलिस भी आ गई। पुलिस ने मेरा नाम-पता पूछकर भगा दिया।

भागकर पार्क में आई तो वहां नब्बू, सोनू और साहिल फिर मिल गए। साहिल मुझे स्कूटी पर बैठाकर गागरोन ले गया, नब्बू और सोनू भी गागरोन आ गए। रात करीब 12 बजे फिर झालावाड़ ले आए और एक मोहल्ले में निर्माणाधीन मकान की दूसरी मंजिल पर नब्बू ने पूरी रात रेप किया। एक लड़का था, नाम नहीं जानती। वह मुझे एक होटल ले गया। वहां पूरी रात रेप किया।

सुबह 6-7 बजे फिर साहिल मुझे मंडी चौराहे के पार्क में ले गया। जहां राजा से मिलाया। राजा ने छोटू को बुलाया। छोटू मोटरसाइिकल पर किसी होटल पर ले गया, जहां खूब सारे लड़के बैठे थे। स्मैक-चिलम पी रहे थे। राजा ने शाहरूख से मिलवाया। वो होटल ले गया, लेकिन होटल वाले ने मेरी उम्र पूछ ली तो नाबालिग बताते ही भगा दिया। फिर शाहरूख और राजा अपने दोस्त के घर ले गए। दोनों ने वहां मेरे साथ गलत काम किया।

वहां से साहिल और एक लड़का कार में गागरोन ले गए। यहां से साहिल अपने दोस्त के पास गया, जिसकी कार थी। वहां तीनों ने गलत काम किया। मना किया तो साहिल ने थप्पड़ मारे, नशा कराया। साहिल फिर उसी पार्क में ले आया। वहां बुलबुल और चौथमल भी थे। वहां से झालावाड़ लाकर मुझे चिंटू के हवाले कर दिया। बिट्टू और चिंटू ने पूरी रात मेरे साथ गलत काम किया। बिट्टू के जाने के बाद उसके दोनों सालों ने पूरी रात रेप किया।

सुबह नाना नाम का लड़का ले गया। दिनभर गागरोन घुमाता रहा, फिर खेत में पूरी रात गलत काम किया। चाकू दिखाकर मुझे डराता-धमकाता रहा। सुबह नाना ने मुझे उसी पार्क में छोड़ दिया, वहां सोनू मिला। छोटू भी आ गया। उसके साथ एक और लड़का था, नाम याद नहीं है। छोटू के साथ आया वह लड़का मुझे लेकर चला गया। कोई कमरा था। वहां छोटू और उसके साथ आए लड़के ने रेप किया। मकान मालिक आ गया, बोला- मैं भी गलत करूंगा। मैं चिल्लाई तो सभी को वहां से भगा दिया।

छोटू के साथ वाला लड़का स्कूटी से पार्क में बैठाकर चला गया। जहां फद्दू मिला। सोनू का दोस्त डीके आ गया। डीके मुझे उसकी फुफो के यहां ले गया और पूरी रात रेप किया। डीके सुबह वहां से निकालकर फिर से एक अनजान पार्क में ले गया। छोड़ा ही था कि सोनू आ गया। सोनू के साथ एक और था। आंख बंद करके मुझे कहीं ले गए, जहां सोनू ने रेप किया। तीन लड़के और आ गए, सोनू ने उनके हवाले कर दिया। ये गागरोन ले गए, नशा किया। मुझे भी नशा कराया। गागरोन में बुलबुल, चौथमल और नाना आ गए, तीनों लड़के इनको देखकर भाग गए। फिर ये लोग मुझे लेकर सुकेत ले आए।

सुकेत रेप के कांड का मामला विधानसभा में भी गूंजा। विधायक मदन दिलावर ने मामले हुई गिरफ्तारी पर सवाल उठाए थे। भाजपा विधायक संदीप शर्मा, प्रतापसिंह सिंघवी के साथ चन्द्रकान्ता मेघवाल ने भी आवाज उठाई थी। मदन दिलावर ने तो रेप के आरोपियों के धर्म विशेष का होने पर भड़काऊ टिप्पणी कर दी थी। वही राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य सुभाष रामनाथ पारधी भी कोटा पहुंचे थे। सुभाष रामनाथ पारधी ने सुकेत रेप घटना को देश की सबसे बड़ी घटना बताया था।

इन आरोपियो को सुनाई सजा
कोर्ट ने राजाखान, शाहरुख, तौहीद उर्फ नाना, अरशद अयूब उर्फ चिंटू, बिट्टू उर्फ वारिस अब्बासी,नब्बू उर्फ नवाब, आफताब मजीद, उर्फ छोटू, साहिल उर्फ मोहम्मद कैफ, इमरान उर्फ बाबू, शोएब उर्फ शोयद, शाहरुख उर्फ सन्नाटा, मोहम्मद आसिफ को 20-20 साल की सजा सुनाई है। वहीं पूजा जैन और चौथमल को 4-4 साल की सजा सुनाई है।