नदियो के उफान होने पर हाइवे बंद राजस्थान और यूपी के इलाकों में बाढ़ जैसे हालात

 
Rain

 देश के कई राज्य इन दिनो  बारिश और बाढ़ झेल रहे है। मध्य प्रदेश के कई जिलो मे बाढ़ जैसे हालात हुए है। उत्तर प्रदेश के कई जिलो मे नदियां उफान पर है। बांदा में नदिया तबाही मचाने को तैयार है। यमुना खतरे के निशान से 2 मीटर ऊपर बह रही है। केन नदी भी खतरे के निशान को पार करने पर गाने वाली है। हमीरपुर जिले से  इलाका पैलानी, जसपुरा और फतेहपुर बॉर्डर के चिल्ला इलाके में भीषण बाढ़ से तबाही मच गई।

अभी लगातार पानी बढ़ रहा है। गावो को कनेक्ट करने वाली सड़को पर पानी आ गया है। लोग जान जोखिम मे डाल निकल रहे है। योगी के निर्देश पर कैबिनेट मंत्री राकेश सचान और राज्यमंत्री अनूप प्रधान ने जिले के अधिकारियो के साथ बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा किया है। यमुना और केन में उफान के चलते 4 दर्जन से ज्यादा गांवों में बाढ़ जैसे हालात है। इनको देखते हुए बांदा-कानपुर हाइवे बन्द कर दिया गया। राजस्थान  के कोटा जिले से छोड़े गए पानी के बाद उत्तर प्रदेश के औरेया की दो तहसील के दो दर्जन गांव पानी से घिर गए है।

प्रशासन ने गांवों को खाली कराया। एनडीआरएफ की टीम भी गांव में जायजा ले रही है। यमुना किनारे बसे लोग अपने घर से पलायन कर सुरक्षित स्ािानो पर रहने चले गए है। 113 मीटर डेंजर पॉइंट को पार कर यमुना दो मीटर ऊपर 115 मीटर पर बह रही है। जिला प्रशासन ने 15 दिनों के लिए ग्रामीणों को राशन आवंटित किया गया है। जरूरत पड़ने पर भी दिए जाने की बात की जा रही है।

रात के लिए लाइट की  व्यवस्था की जा रही है। राजस्थान के धौलपुर जिले में चंबल नदी भी उफान पर है। यह खतरे के निशान से 14 मीटर ऊपर बह रही है। 80 से ज्यादा गांवों का संपर्क जिला केंद्र से कट चुका है। ऐसे में प्रशासन प्रभावित ग्रामीणो के  बचाव कार्य के लिए युद्ध स्तर पर जुट गया।