कांग्रेस राज में खाद-बिजली की जगह अन्नदाता को मिल रही लाठियां-भाजपा किसान मोर्चा द्वारा कलेक्ट्रेट पर किया प्रदर्शन

 
जिला कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया

कोटा। कांग्रेस राज में प्रदेश किसानों व आमजन पर हो रहे अत्याचार, फेल कानून व्यवस्था, बिजली आपूर्ति में कुप्रबंधन समेत जनविरोधी नीतियों को लेकर प्रदेश भाजपा के आह्वान पर कोटा देहात किसान  मोर्चा द्वारा जिलाध्यक्ष योगेंद्र नंदवाना के नेतृत्व में जिला कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। भाजपा देहात के कार्यकर्ता सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरूद्ध प्रदर्शन करते हुए रैली के रूप में कलक्ट्रेट पहुंचे व उपखंड अधिकारी को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

नंदवाना ने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव के पूर्व घोषणा पत्र में किसानों की सम्पूर्ण कर्जमाफी, 24 घण्टे घरेलू बिजली, किसानों को 8 घण्टे बिजली की आपूर्ति का का वादा किया था, लेकिन सरकार अन्नदाता को न बिजली दे पा रही है न ही यूरिया-खाद उपलब्ध करा रही है। प्रदेश का अन्नदाता अपना हक मांगता है तो उसे बदले में पुलिस की लाठियां मिलती है। सरकार बिजली प्रबंधन में फेल साबित हुई है। सरकार के कुप्रबंधन एवं उदासीनता के कारण ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में 7 से 8 घण्टे बिजली कटौती  की जा रही है। बिजली सर्विस चार्ज में भारी बढ़ोतरी कर जनता की कमर तोड़ दी है।

भाजपा नेताओं ने ज्ञापन के माध्यम से अवगत कराया कि कांग्रेस सरकार द्वारा बजट सत्र 2019-20 में घोषणा की गई थी कि राज्य सरकार द्वारा पूर्व में 1 लाख नवीन कृषि कनेक्शन जारी किए जाएंगे लेकिन आज तक यह लक्ष्य पूरा नहीं किया गया। उसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। लोट बटौरने के लिए कर्जामाफी का झूठा सपना दिखाया गया। राजस्थान में 2250 रूपए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बाजरे की खरीद नहीं हो रही है, जिससे किसान मजदूरन 1300-1400 रूपये में अपना बाजरा बेचने को मजबूर हो रहा है या तो अन्य राज्य में जाकर बेच रहा है।

भाजपा नेताओं ने चेताया कि अन्नदाता पर अत्याचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पर्याप्त बिजली, यूरिया व अन्य जरूरी मांगे पूरी नहीं की गई तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान भाजपा नेता धर्मराज सिंह, गिरिराज चौधरी, नेमीचंद नागर, रामविलास सुमन, हुकुम चंद शर्मा, राजेश राव, शंभू दयाल तंवर व एलएन शर्मा सहित कई भाजपा पदाधिकारी मौजूद रहे।