नव संकल्प शिविर में उठी मांग- प्रियंका सबसे लोकप्रिय चेहरा, राहुल नहीं मान रहे तो संभाल लें कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी

 
Demand raised in Nav Sankalp camp - Priyanka is the most popular face, if Rahul does not agree, then take over the chair of Congress President

उदयपुर। कांग्रेस का राजस्थान के उदयपुर में तीन दिवसीय नव संकल्प ‘चिंतन शिविर’ (Three-day Nav Sankalp 'Chintan Shivir') का आज दूसरा दिन है, जिसमें मुख्य फोकस पार्टी को देश में मजबूत करना है। वहीं कांग्रेस में संगठनात्मक परिवर्तन के आह्वान के बीच पार्टी नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने शनिवार को कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा पार्टी सबसे लोकप्रिय चेहरा हैं और अगर राहुल गांधी जिम्मेदारी स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं तो उन्हें इसका नेतृत्व संभालना चाहिए।

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की मौजूदगी में कहा कि दो साल से राहुल गांधी को मनाने की कोशिश की जा रही है, अगर वो तैयार नहीं हैं, तो प्रियंका गांधी वाड्रा को पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। उनकी इस बात पर किसी ने कोई जवाब नहीं दिया, हालांकि राज्यसभा सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने उन्हें बीच में रोका, आचार्य प्रमोद कृष्णम अकेले नहीं हैं, जिन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा को पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठाई है। सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा को राष्ट्रीय स्तर पर लाया जाना चाहिए न कि केवल एक राज्य तक सीमित रखना चाहिए।

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि ये समय राहुल गांधी को पार्टी की बागडोर संभालने का है और अगर किसी कारण से वो इस भूमिका को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो प्रियंका गांधी वाड्रा को आगे आना चाहिए और पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए, क्योंकि वो देश में सबसे लोकप्रिय चेहरा हैं। उन्होंने कहा कि देश में करोड़ों लोग और कांग्रेस के लाखों कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष का पद संभालें।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चिंतन, मंथन और परिवर्तन की बात की है और युवा पीढ़ी को पार्टी को सत्ता में वापस लाने के लिए आगे से पार्टी का नेतृत्व करने का मौका मिलना चाहिए। साथ ही उन्होंने ये भी उम्मीद जताई कि 2023 के विधानसभा चुनाव से पहले राजस्थान में कांग्रेस में बदलाव लाया जाएगा। इसके अलावा आचार्य प्रमोद कृष्णम ने हिंदुत्व का मुद्दा उठाया और नेतृत्व से इस मोर्चे पर पार्टी की विरासत को बनाए रखने और बहुसंख्यक लोगों का विश्वास वापस जीतने के लिए कहा।

वहीं सूत्रों ने कहा कि आचार्य प्रमोद कृष्णम ने चिंतन शिविर में कहा कि कांग्रेस सभी धर्मों का सम्मान करती है और वास्तव में हिंदू धर्म का प्रतिनिधित्व करती है और उसे ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत माता’ की विरासत को वापस जीतने की कोशिश करनी चाहिए।