लखीमपुर खीरी पहुंचे राहुल-प्रियंका, मृतक लवप्रीत के परिजनों से की मुलाकात, सचिन पायलट हिरासत में

 
मृतक लवप्रीत के परिजनों से की मुलाकात

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में रविवार को हुए बवाल के बाद राजनेतिक भुचाल आया हुआ है। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र दिल्ली पहुंच गए हैं। टेनी अमित शाह से मिलने पहुंचे। योगी सरकार ने राहुल-प्रियंका को तीन अन्य लोगों के साथ लखीमपुर खीरी जाने के अनुमति दे दी है। राहुल गांधी लखनऊ से सीतापुर पहुंचे और प्रियंका को लेकर लखीमपुर पहुंच चुके हैं। इसके अलावा सभी विपक्षी दल एक बार में पांच लोगों के साथ लखीमपुर खीरी जा सकेंगे।

ढांढस बंधाते हुए

दो दिन से सीतापुर में नजरबंद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बुधवार को राहुल गांधी के साथ तिकुनिया बवाल में मारे गए मृतक लवप्रीत के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाते हुए न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया। बुधवार देर शाम 9ः30 बजे राहुल और प्रियंका मृतक लवप्रीत के घर पहुंचे और करीब आधे घंटे तक मुलाकात चली। मुलाकात के बाद बाहर निकली प्रियंका व राहुल गांधी ने मीडिया से कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।

न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया

सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी मामले पर लिया स्वतः संज्ञान
लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है और चीफ जस्टिस एनवी रमण की बेंच 7 अक्तूबर को इस मामले की सुनवाई करेगी।

लखीमपुर खीरी जा रहे सचिन पायलट हिरासत में
लखीमपुर खीरी जा रहे कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट को पुलिस प्रशासन ने मूंढापांडे टोल प्लाजा से आगे नहीं बढ़ने दिया। मूंढापांडे टोल प्लाजा पर उन्हें रोक लिया गया। रोके जाने पर सचिन ने स्थानीय कांग्रेसियों के साथ अपनी गाड़ी का रुख मुरादाबाद शहर की ओर कर दिया। माना जा रहा है कि वह मुरादाबाद मे पीडब्ल्यूडी के गेस्ट हाउस पहुंचकर आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे। इस दौरान पुलिस की गाड़ियां भी उनके काफिले के साथ हैं। इससे पूर्व गजरौला और जोया टोल प्लाजा से उनका काफिला बेरोकटोक आगे बढ़ा था। गजरौला में पितृ विसर्जन अमावस्या के कारण गंगा पुल पर लगे जाम के दौरान कांग्रेसियों ने उनका स्वागत किया। उन्होंने कांग्रेसियों के बीच संक्षिप्त संबोधन भी किया था। हांलांकि इससे पहले आचार्य प्रमोद के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर दावा किया गया था कि सचिन पायलट और आचार्य प्रमोद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और किसी गुप्त स्थान पर ले जा रहे हैं।

राहुल गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा लखीमपुर खीरी में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी, दीपेंद्र हुडा पीड़ित किसान परिवार के अलावा मृतक पत्रकार रमन कश्यप के परिवार से भी मिले।

एयरपोर्ट पर ही धरने पर बैठ गए।

इससे पहले जो घटनाक्रम लखनऊ में चला वो बड़े सियासी भूचाल की ओर संकेत कर रहा था। राहुल गांधी दोपहर करीब 2 बजे दिल्ली से लखनऊ पहुंचे। तय कार्यक्रम के मुताबिक, राहुल लखनऊ एयरपोर्ट से सीतापुर जाते, जहां वो प्रियंका से मुलाकात कर फिर वहां से प्रियंका-राहुल लखीमपुर के लिए निकलते, लेकिन इससे पहले ही राहुल गांधी को एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया। उनके साथ पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल भी थे। मीडिया से बातचीत में राहुल गांधी ने कहा कि उनको अपनी गाड़ी से आगे नहीं जाने दिया जा रहा है और वो एयरपोर्ट पर ही धरने पर बैठ गए।

राहुल ने योगी सरकार पर निशाना साधा कि यह कैसी परमिशन है? दरअसल, फोर्स का कहना है कि लखीमपुर जाने के लिए प्रशासन ने जो एस्कोर्ट और रास्ता तय किया है उससे ही जाना होगा। लेकिन राहुल इस पर राजी नहीं थे। राहुल ने कहा, सरकार कुछ बदमाशी करना चाहती है, मुझे नहीं पता क्या लेकिन इनका कुछ प्लान है। ये मुझे कैदी की तरह पुलिस की गाड़ी में लेकर जाना चाहते हैं। नए विवाद की कहानी और ज्यादा उलझती जा रही थी। इस बिगड़ती हुई बात को बनाने के लिए प्रशासन ने कुछ नियमों (पांच से ज्यादा लोग एक साथ नहीं जा सकेंगे ) के साथ उन्हें अपनी गाड़ी से जाने की इजाजत दे दी।