बूंदी : दरिंदगी की हदें पार,नाबालिग की हत्या के बाद शव के साथ भी रेप करते रहे 3 दरिंदे

 
नाबालिग की हत्या के बाद शव के साथ भी रेप करते रहे 3 दरिंदे
बूंदी जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव और उनकी टीम की सराहनीय भूमिका रही है जिन्हौने दिल दहलाने वाली इस घटना का समय रहते जल्द खुलासा कर इसे राजनीतिक मुद्दा बनने से रोक दिया। वरना यह मामला राजस्थान ही नहीं अपितु देश में चर्चा का विषय बन जाता। जिला पुलिस की टीम ने इस वारदात में शामिल दरिंदों की तलाश कर तत्काल सलाखों के पीछे भिजवाया। जिससे राजस्थान पुलिस का प्रदेश में मान बढ़ा है और राजस्थान सरकार की साख पर दाग लगने से बचा है। 

बूंदी। जिले में आदिवासी नाबालिग बालिका के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या कर देने के मामले में दिल दहला देने वाली सच्चाई सामने आई है। इस वारदात कि शिकार मृतका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आई तो पुलिस की आंखों में से भी आंसू बह निकलें। पुलिस सूत्रों के अनुसार मृतका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया की दरिंदो ने दुष्कर्म के बाद नाबालिग की हत्या कर दी। इसके बाद भी हैवानों का जी नहीं भरा तो उसके शव के साथ रेप कर नौचते रहे। मृतका के प्राईवेट पार्ट सहित शरीर पर चोटों के 30 से अधिक निशान मिले है।

पुलिस के अनुसार यह वारदात बूंदी जिले के बसोली थाना इलाके के काला कुआं गांव के पास 23 दिसंबर को हुई थी। इस वारदात में एक युवक, एक बुजुर्ग और एक नाबालिग शामिल था। पीड़िता इनके पड़ोस में रहती थी, नाबालिग जब जंगल में पशु चराने गई हुई थी तभी तीनों उसे अकेली देखकर उस पर टूट पड़े थे। वहां तीनों ने नाबालिग बालिका के हाथ पैर बांध कर उससे गैंगरेप किया। बूंदी पुलिस अधीक्षक जय यादव ने इस वारदात को अपने सेवाकाल की सबसे बड़ी दर्दनाक घटना बताते कहा कि वे हर हाल में आरोपियों को सजा दिलवायेंगे।

10 थानों की पुलिस ने जंगल में सर्च कर 12 घंटे में हैवानों को दबोच लिया था इस घिनौनी वारदात के दौरान पीड़िता ने दरिंदों से संघर्ष करते हुये जैसे-तैसे े उनके शिकंजे से निकलकर भागने का प्रयास भी किया, लेकिन भेद खुल जाने के डर से आरोपियों ने बालिका का चुन्नी से गला घोंटकर और सिर पर पत्थर मार कर उसकी हत्या कर दी थी। मामला सामने के आने के बाद पुलिस कप्तान ने तत्परता बरतते हुये वारदात को खोलने के लिए जिले के 10 थानों की पुलिस झौंक दी और पुलिस ने 12 घंटे के भीतर ही आरोपियों की खोज कर गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस जल्द करेगी आरोपियों के खिलाफ चालान पेश
पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुये इसे केस ऑफिसर स्कीम में लेकर इसकी जांच शुरू की है। पुलिस के पास पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। अब एफएसएल रिपोर्ट आने का इंतजार है। इस मामले में पुलिस आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चालान जल्द पेश करेगी। पकड़े गये आरोपियों में सुलतान भील (27) और छोटूलाल भील (62) सहित 16 वर्षीय एक नाबालिग शामिल है।

अभिभाषक परिषद ने लिया निर्णय, आरोपियों की पैरवी नहीं करेगें अधिवक्ता  
इस दिल दहला देने वाली घटना की अभिभाषक परिषद ने कड़ी निंदा करते हुये बार के किसी भी सदस्य द्वारा आरोपियों की पैरवी नहीं करने का निर्णय लिया है। परिषद ने कहा कि आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के प्रयास किये जायेंगे। 

प्रदेश में पुलिस का बढ़ा मान, राजनीतिक मुद्दा नहीं बन पाया
 उक्त मामले में बूंदी जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव और उनकी टीम की सराहनीय भूमिका रही है जिन्हौने दिल दहलाने वाली इस घटना का समय रहते जल्द खुलासा कर इसे राजनीतिक मुद्दा बनने से रोक दिया। वरना यह मामला राजस्थान ही नहीं अपितु देश में चर्चा का विषय बन जाता। जिला पुलिस की टीम ने इस वारदात में शामिल दरिंदों की तलाश कर तत्काल सलाखों के पीछे भिजवाया। जिससे राजस्थान पुलिस का प्रदेश में मान बढ़ा है और राजस्थान सरकार की साख पर दाग लगने से बचा है।