राजस्थान : 12वीं में पढ़ने वाली नाबालिग लड़की,10वीं कक्षा के 15 वर्षीय छात्र को भगा ले गई!, दोनो पर पोस्को में केस दर्ज

- राजस्थान का पहला अनोखा मामला, नाबालिग लड़के कि ओर से भी पोस्को में किया मामला दर्ज 
- किशोर और किशोरी कि ओर से हिंडोली-सदर थाने में पोस्को एक्ट में मामला दर्ज
 
Rajasthan: Minor girl studying in class 12, took away 15-year-old student of class 10th, case filed against both of them in POSCO
बूंदी। राजस्थान के बूंदी जिले में नाबालिग बालक और नाबालिग बालिका (minor boy and minor girl) के पिता की ओर से परस्पर दी गई अपहरण कि रिपोर्ट पर सदर थाना और हिंडोली थाना पुलिस ने अलग-अलग मामला दर्ज किया हैं। दोनो मामलो में पुलिस ने किशोर और किशोरी के 164 के बयान व प्रारंभिक अनुसंधान के आधार पर पोस्को एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज (Case registered under sections of POSCO Act) किया है, मामले में अनुसंधान जारी है। राजस्थान में इस तरह का यह पहला मामला (This is the first such case in Rajasthan) होगा, जहां दोनों पक्षों की ओर से अलग-अलग मामले दर्ज कराये गए है। 

लड़की ने घुमाया फिराया और मोबाईल किया गिफ्ट
जानकारी के मुताबिक बूंदी शहर में रहकर 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा (minor girl studying in class 12th) ने करीब 4 महीने पहले 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले एक 15 वर्षीय किशोर बालक (A 15 year old teenage boy studying in class 10th) को सोशल मीडिया (Social media) के जरिए फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थी। जिसे नाबालिग बालक ने स्वीकार कर लिया, इसके बाद दोनों के बीच सोशल मीडिया पर चैटिंग होती रही और इस दौरान दोनों ने एक दूसरे के नंबर लेकर बातचीत करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे दोनों नजदीक आने लगे और दोनों में मिलना जुलना शुरू हो गया। इस दोरान नाबालिग बालिका ने किशोर को घुमाया फिर आया और मोबाइल भी दिलाया। इस दरमियान दोनों ने शारीरिक संबंध भी बनाये।

बूंदी से टोंक पहुंचकर पुलिस से मांगी मदद
1 नवंबर को नाबालिग लड़की ने नाबालिग लड़के को फोन कर कहा कि में बूंदी से बस में बैठकर हिंडोली आ रही हूं तुम मुझे हिंडोली बस स्टैंड पर मिलना घूमने चलना है। यहां से लड़की, लड़के को लेकर टोंक चली गई। नाबालिक लड़की, लड़के को साथ लेकर टोंक पुलिस के पास पहुंची और वहां पुलिस को अपनी मर्जी के खिलाफ परिवार जनों द्वारा जबरन शादी करने की कहानी सुनाते हुए मदद मांगी। टोंक पुलिस ने मामले में बूंदी पुलिस से संपर्क किया तो पता लगा कि आज 1 नवंबर को ही नाबालिग बालिका के पिता ने सदर थाने में नाबालिग बालक के खिलाफ धारा 363 में मामला दर्ज करवाया हुआ है। 

हकीकत पता चली तो नाबालिग लड़के के पिता ने भी दर्ज कराया केस
इधर, नाबालिग लड़के के पिता को हकीकत पता चली कि उसके नाबालिग लड़के को 17 साल की लड़की बहला-फुसलाकर भगा कर ले गई और लड़की ने ही उसे उकसाया। जिस पर नाबालिग बालक के पिता ने भी हिंडोली थाने में नाबालिग लड़की के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज करवा दिया।

वहीं टोंक पुलिस से सूचना मिलने पर बूंदी सदर थाना पुलिस नाबालिग बालिका और नाबालिग बालक को दस्तियाब कर देर रात बूंदी ले आयी। दोनों नाबालिग होने के चलते इन्हें 2 नवंबर रात को ही बाल कल्याण समिति (CWC) के समक्ष पेश किया गया। बाल कल्याण समिति द्वारा की गई काउंसलिंग में नाबालिग बालक- नाबालिग बालिका ने दोनों के बीच कई बार शारीरिक संबंध बनाने की बात स्वीकार की। जिस पर बाल कल्याण समिति ने दोनों को पीड़ित मानते हुए उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया। 

पुलिस ने किया पोस्को एक्ट में मामला दर्ज
इधर, लड़की के पिता की ओर से सदर थाने में दर्ज मामले और नाबालिक लड़के के पिता की ओर से हिंडोली थाने में धारा 363 में दर्ज मामले में पुलिस ने अनुसंधान प्रारंभ किया तथा 164 के बयान दर्ज करवाए। प्रारंभिक अनुसंधान में दोनों ने शारीरिक संबंध बनाने की बात स्वीकार की। जिस पर पुलिस ने पोस्को एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है।

संभवतः राजस्थान का पहला मामला है, जिसमें नाबालिक किशोर की ओर से भी पोस्को एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। अब पुलिस अनुसंधान के बाद मामले को जेजे कोर्ट में पेश करेगी, उसके बाद मामला पोस्को कोर्ट में पहुंचेगा। मामला नाबालिग किशोर- किशोरी से जुड़ा होने के कारण किशोर न्याय बोर्ड मामले पर किस तरह का निर्णय लेता है उस पर ही आगे की कार्यवाही निर्भर होगी।

बाल कल्याण समिति ने दोनो को माना पीड़ित
बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सीमा पोद्दार ने बताया कि यह अपनी तरह का राजस्थान में संभवतः पहला मामला है, नाबालिग बालक और बालिका से काउंसलिंग की गई, जिसमें लड़की द्वारा लड़के को भगा ले जाने की बात सामने आई है, जिस पर बाल कल्याण समिति ने दोनों को पीड़ित मानते हुए अपने अपने परिजनों के सुपुर्द कर दिया है। पुलिस मामले कि जांच में जुटी है।

किशोर न्याय बोर्ड के पेश नतीजे के आधार पर होगी आगे कि कार्यवाही
जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव ने बताया कि दोनों पक्षों की ओर से सदर और हिंडोली थाने में मामला दर्ज करवाया था। 164 के बयान के बाद पोस्को एक्ट में मामला दर्ज कर लिया है। मामले में अनुसंधान किया जा रहा है। किशोर न्याय बोर्ड के नतीजे के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।