in

समाज सेविका शिक्षाविद स्व. दुर्गावती के निधन पर दी भावभीनी श्रद्धांजलि

कोटा, (विशाल उपाध्याय)। कोटा की समाज सेविका एवं शिक्षाविद स्वर्गीय दुर्गावती उपाध्याय को उनके निधन पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित (Emotional tribute paid to social worker and educationist late Durgavati Upadhyay on his death) की गई। उनके पुत्र विशाल उपाध्याय ने बताया कि दुर्गावती उपाध्याय सेवानिवृत शिक्षिका थी। समाज कार्यों में उनका पूर्ण रुझान था। विद्यार्थी हित के लिए वे सदैव संघर्ष करती थी। 

श्रीमती दुर्गावती विशाल एजुकेशन एंड मेडिकल वेलफेयर सोसाइटी के संरक्षक थी। अपने सरल स्वभाव एवं वात्सल्य के कारण वह वह छात्रों में बहुत प्रख्यात थी। उनके शिष्य शहर के विभिन्न सम्मानीय पदों पर रहे। उनके शिष्यों में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, उपभोक्ता सहकार समिति के अध्यक्ष राजेश बिरला, हरिकृष्ण बिरला, राजेंद्र शारदा, शहर जिलाध्यक्ष कांग्रेस रविंद्र त्यागी, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पंडित गोविंद शर्मा सहित शहर के वरिष्ठ राजनेता रहे। शिक्षा जगत में उन्हें दुर्गा बहन जी के नाम से जाना जाता था। श्रीमती दुर्गावती प्रजापति ब्रह्माकुमारी संस्थान से भी जुड़ी हुई थी। वह अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ कर गई हैं। 

श्रद्धांजलि देने वालों में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल, विधायक कोटा दक्षिण संदीप शर्मा, कोटा दक्षिण विधानसभा चुनाव कांग्रेस प्रत्याशी राखी गौतम, पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल, समाज सेवक हरीकृष्ण बिरला, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पंडित गोविंद शर्मा, कांग्रेस पार्षद जमुना बाई, भाटिया कंपनी के चेयरमैन प्रेम जे भाटिया, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य पंडित अनिल औदीच्य, एक प्रयास सोसाइटी के हर्षित गौतम, वरिष्ठ पत्रकार प्रदुम्न शर्मा, गजेंद्र व्यास, जितेंद्र शर्मा, संजीव सक्सेना, बीएन गुप्ता, सुधींद्र गौड़, राजेश जैन, प्रताप सिंह तोमर, योगेश जोशी, योगेश सिंगल, असलम रोमी, रमेश गौतम, अनिल भारद्वाज सहित महाराष्ट्रीयन समाज जंक्शन, नूतन महाराष्ट्रीयन समाज, आदि गौड़ बाविसा ब्राह्मण समाज समिति भोपाल शामिल थे।
 

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

रेजोनेंस के स्टार्ट में अब तक 1.5 लाख विद्यार्थी हुए सम्मिलित, रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 2 दिसंबर

मोदी लॉ कॉलेज के विधार्थियो ने ली संविधान के मार्ग पर चलने की शपथ