in

घरेलू हिंसा से प्रताड़ित महिलाओं को मुफ्त विधिक सहायता उपलब्ध कराना लक्ष्य – रेहाना चिश्ती


कोटा, (अख्तर खान अकेला)। राजस्थान में घरेलू हिंसा से प्रताड़ित महिलाओं को मुफ्त विधिक सहायता हर ज़िले, कस्बे में मिले इसके लिए राजस्थान महिला आयोग की चेयरमेन श्रीमती रेहाना रियाज़ चिश्ती सकारात्मक प्रयासों में जुटी हैं। जयपुर स्थित महिला आयोग कार्यालय में मुफ्त विधिक सहायता के लिए, विधि क्लिनिक का कामकाज प्रारम्भ कर दिया गया है। ह्यूमन रिलीफ सोसायटी के महासचिव एडवोकेट अख्तर खान अकेला, पूर्व प्रधान पंचायत समिति सदस्य गढ़ेपान रईस खान ने आज महिला आयोग की चेयरमेन श्रीमती रेहाना रियाज़ से उनके कोटा प्रवास पर भेंट कर, घरेलू हिंसा से प्रताड़ित महिलाओं को तत्काल मुफ्त विधिक सहायता के प्रयास संबंधित मांग उठाई थी।

 रेहाना रियाज़ ने बताया कि उनके कार्यभार संभालने के बाद राज्य महिला आयोग सभी तरह की प्रताड़ित महिलाओं को तत्काल इंसाफ मिले इसके लिए वह लगातार प्रयासरत हैं। उन्होंने बताया कि जयपुर स्थित मुख्यालय में उन्होंने विधिक सहायता समिति के सहयोग से विधिक क्लिनिक की शुरुआत की हैं, जहाँ प्रताड़ित महिला के प्रार्थना पत्र वगेरा लिखवाने की व्यवस्था की गयी है। ह्यूमन रिलीफ सोसायटी के अख्तर खान अकेला ने महिला आयोग की चेयरमेन को बताया कि प्रत्येक ज़िले, कस्बे में घरेलू हिंसा से प्रताड़ित महिला अकेली पड़ जाती है, उसके पास घरेलू हिंसा के परिवाद, सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार शपथ पत्र वगेरा की टाइपिंग चार्ज भी नहीं होता है, ऐसे में वकील की फीस के साथ ऐसी गरीब एकल महिलाओं के लिए प्रताड़ना के खिलाफ क़ानूनी लड़ाई लड़ पाना सम्भव नहीं होता है।

ऐसे में ऐसी सभी महिलाओं को प्राथमिकता के आधार पर केम्प लगाकर या प्रचार प्रसार के ज़रिये जागरूक किया जाए कि हर ज़िले, कस्बे में ऐसी प्रताड़ित महिलाओं को टाइपिंग खर्च, विधिक सहायता का खर्च, ज़िले के विधिक न्यायिक प्राधिकरण द्वारा उठाया जाना निश्चित हो। प्रताड़ित महिलाओं को कस्बे और ज़िले के विधिक न्यायिक प्राधिकरण के कार्यालय में जाकर, घरेलू हिंसा के परिवाद, पारिवरिक न्यायालय के परिवाद, दहेज़ प्रताड़ना की शिकायते, तलाक़ की याचिका, खासकर, अल्पसंख्यक महिलाओं की विवाह विघटन धर्मगुरुओं के ज़रिये तस्दीक़ किये जाने के बाद भी, पारिवारिक न्यायालयों से डिक्री प्रार्प्त करने के लिए बिना किसी खर्च के मुफ्त विधिक सहायता व्यवस्था के तहत उन्हें मदद मिल सके और शीघ्रतम सुनवाई के सिद्धांत के साथ, उन्हें गुज़ारा खर्च राशि प्रोटेक्शन ऑफिसर की रिपोर्ट पर मिल सके।

 महिला आयोग की चेयरमेन इस मामले में सकारात्मक हैं। वोह लगातार इस व्यवस्था के लिए संबंधित एजेंसियों के साथ सम्पर्क में रहकर निर्णायक स्थिति में हैं, उनके जन सुनवाई कार्यक्रम लगातार चल रहे हैं। कोटा संभाग में भी शीघ्र ही महिला आयोग सुनवाई शुरू करेगी। रेहाना रियाज़ ने कार्यभार संभालते ही राजस्थान की प्रताड़ित महिलाओं को तत्काल कैसे इंसाफ मिले, इसके लिए अपनी टीम के साथ सकारात्मक प्रयासों में लगी हैं।  रेहाना रियाज़ इन्साफ परस्त हैं, इसलिए वोह अपने अधिकारीयों, सहयोगियों के साथ, मिलने वाले शिकायतों की सत्यता की जांच भी कराती हैं, अनावश्यक, काल्पनिक, झूंठी शिकायतों को वोह समझाइश के साथ हतोत्साहित भी करती है। जबकि, प्रताड़ना संबंधित पुष्ट शिकायतों के मामले में वोह अधिकारीयों को लताड़ पिलाकर ऐसी प्रताड़ित महिलाओं को तत्काल राहत मिले इसके लिए हर सम्भव प्रयास करती हैं। रेहान रियाज़ चिश्ती अनुभवी हैं व कई दर्जन, समाजसेवी संस्थाओं से जुड़कर, काम करती रही हैं, महिलाओं के मान, सम्मान, सुरक्षा के लिए हमेशा संघर्षरत रही हैं। वे कांग्रेस संगठन में प्रदेश महासचिव रहकर बढे बढे ज़िलो में प्रभारी रहकर कार्यर्कताओं से सामजस्य बनाकर काम करती रही हैं। 

जबकि राजस्थान महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते उन्होंने हर ज़िले में महिला कांग्रेस के सम्मेलन करवाए है। राज्य और राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन करवाए है। कांग्रेस के सुप्रीमो रहे राहुल गांधी की कोटा यात्रा के दौरान, इन्हे एक दिन पहले, कोटा में ही महिला कांग्रेस का सम्मेलन, जब राहुल गांधी की उपस्थित में करने के लिए दिया गया, तो वोह ज़रा भी विचलित नहीं हुईं ओर उन्होंने तुरंत ही आसपास के ज़िलों में टेलीफोन के ज़रिये सुचना दी, कोटा में प्रयास किये और कोटा में राहुल गांधी की उपस्थिति में वोह महिलाओं का पहला, कामयाब सम्मेलन साबित हुआ, राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान अलग अलग, स्पॉट पर, महिला कांग्रेस के जिला अध्यक्षों के नेतृत्व में झालावाड़, कोटा, बूंदी सहित सभी अलग अलग ज़िलों में इनके नेतृत्व में महिलाओं द्वारा भारत जोड़ो यात्रा के स्वागत कार्य्रकम हैं।
 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

रेजोनेंस ने सत्र 2023-24 के लिए सभी कोर्सेज में प्रवेश की घोषणा की

बजरी लीज धारकों की बढ़ती गुंडागर्दी, हमले में एक घायल, प्रतिबंधित एरिया में भी हो रहा अवैध खनन