in

SBI 11 करोड़ के सिक्कों का गबन मामले में CBI का दिल्ली सहित राजस्थान में 25 स्थानों पर सर्च ऑपरेशन

जयपुर। भारतीय स्टेट बैंक में 11 करोड़ रुपए के सिक्कों के गबन (Embezzlement of coins worth Rs 11 crore in State Bank of India) के एक प्रकरण में गुरुवार को सीबीआई ने दिल्ली सहित राजस्थान में 25 स्थानों पर सर्च ऑपरेशन (CBI conducts search operation at 25 places in Rajasthan including Delhi) चलाया है। सीबीआई ने दिल्ली, जयपुर, दौसा, करौली, सवाई माधोपुर, अलवर, उदयपुर और भीलवाड़ा समेत 25 स्थानों पर गबन से जुड़े प्रकरण के तत्कालीन बैंक अधिकारी, शाखा प्रबंधक, संयुक्त अभिरक्षक, कैश ऑफिसर सहित अन्य कर्मचारियों व बाहरी लोगों के अलग-अलग ठिकानों पर पडताल की।

11 करोड़ रुपए के सिक्कों के गबन को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने 13 अप्रैल, 2022 को प्रकरण पंजीबद्ध किया था और करौली जिले के टोडाभीम थाने में दर्ज एफआईआर की जांच अपने हाथ में ले ली थी। सीबीआई द्वारा प्रकरण में किए गए सर्च ऑपरेशन के दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए गए हैं, जिनकी जांच की जा रही है।

अगस्त 2021 में भारतीय स्टेट बैंक की मेहंदीपुर बालाजी शाखा में सिक्कों की गिनती के दौरान 11 करोड़ के सिक्कों की हेराफेरी उजागर हुई थी। बैंक शाखा में सिक्कों की गिनती का काम अर्पित गुड्स कैरियर को दिया गया था। सिक्कों की गिनती बैंक के आदेश पर गठित समिति और शाखा प्रबंधक हरगोविंद मीणा की देखरेख में की जा रही थी। सिक्कों की गिनती में लगी संबंधित कंपनी के कर्मचारी बैंक शाखा के पास ही एक धर्मशाला में ठहरे हुए थे, जिन्हें 15 हथियारबंद जवानों ने सिक्कों की गिनती को रोकने और मेहंदीपुर से वापस लौट जाने की धमकी दी थी।

जिस पर सिक्को कि गिनती मे लगी कंपनी ने बैंक के आला अधिकारी से संपर्क कर पुलिस को एक लिखित शिकायत दी। जिस पर शाखा के आला अधिकारियों को मई माह में भारी अनियमितताओं के चलते निलंबित किए गए कैश ऑफिसर राजेश कुमार मीणा पर शक गया, जिसने अपने कार्यकाल के दौरान बैंक में काफी राशि का गबन किया था। जब सिक्कों की गिनती का काम पूरा किया गया तो 11 करोड़ के सिक्कों का गबन उजागर हुआ। जिस पर शाखा प्रबंधक हरगोविंद सिंह मीणा ने टोडाभीम थाने में गबन का मामला दर्ज करवाया और पिछले 5 वर्षों से बैंक में पदस्थापित रहे कर्मचारी व वेंडर कर्मचारियों की जानकारी पुलिस को दी। गबन की राशि करोड़ों में होने के चलते राजस्थान हाईकोर्ट के निर्देश पर अप्रैल 2022 में प्रकरण की जांच सीबीआई को सौंपी गई। जिसपर सीबीआई ने अपनी कार्यवाही कि जा रही है। जल्द मामले में बडा खुलासा हो सकता है।

 

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बाड़मेर : युवती से कि बात तो मंगेतर ने युवक को दिनभर पीटा, पिटाई से आहत युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर किया सुसाइड

REET EXAM 2022 की प्रथम और द्वितीय लेवल के पेपर की प्रोविजनल Answer Keyजारी