in

कोटा शहर की सड़कों की हालत ऐसी कर दी की 26 परिवारों के चिराग बुझ गए अंधेरा छा गया- गुंजल

कोटा। उखड़ी व टूटी हुई सड़कों (crumbling and broken roads), जानलेवा गड्ढों व अनियोजत विकास के विरोध में पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल (Former MLA Prahlad Gunjal in protest against unplanned development) के नेतृत्व में निकाली गई रैली में कार्यकर्ताओं का सैलाब उमड़ पड़ा। सुबह 10 बजे से ही कार्यकर्ता बड़े बड़े जत्थों के रूप में हाथों में तिरंगा व भाजपा का झंडा लिए गगनभेदी नारे लगाते हुए मल्टीपरपज स्कूल पहुंचे। लगभग 11ः30 बजे गुंजल के नेतृत्व में मल्टीपरपज स्कूल से रवाना हुई रैली में हजारों की संख्या में उपस्थित कार्यकर्ताओं का जोश देखते ही बन रहा था।

Regular train service started from 15th August between Jhalawar City to Junakheda

 रैली के प्रारंभ में गुंजल ने कार्यकर्ताओं से अनुशासन बनाए रखने की अपील की। रैली में गुंजन सबसे आगे खुली गाड़ी में चल रहे थे तो वही कार्यकर्ता भ्रष्टाचार बंद करो, कमीशन खोरी बंद करो, अनियोजित विकास बंद करो, टूटी सड़के सही करो, नरेंद्र मोदी जिंदाबाद, बीजेपी जिन्दाबाद जैसे गगनभेदी नारों से रैली को गुंजायमान कर रहे थे। रैली गुमानपुरा से प्रारंभ होकर सूरजपोल, कैथूनीपोल, गंधीजी का पुल, श्रीपुरा, सब्जीमंडी, अग्रसेन बाजार, रामपुरा, लाडपुरा, नयापुरा होते हुए कलेक्ट्री पहुंच सभा में परिवर्तित हो गई।

सभा को संबोधित करते हुए गुंजल ने मंत्री धारीवाल पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि राज आने पर सब की जांच कराई जाएगी अधिकारी गलत काम करने से बचें वरना मंत्री के साथ साथ गलत काम करने वाले अधिकारियों को भी जेल जाना पड़ेगा। अपने संबोधन के प्रारंभ में गुंजल ने कहा कि आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे को स्वदेशी तोपों से सलामी दी जाएगी यह संकेत है कि देश तरक्की कर रहा है। लगातार मोदी जी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है। कोटा शहर भी घर-घर तिरंगा फहरा रहा है। लेकिन आजादी के 75 साल बाद अमृत महोत्सव के अवसर पर कोटा की सड़कों की कल्पना पेरिस जैसी होनी चाहिए थी, परंतु मुझे बहुत तकलीफ के साथ कहना पड़ रहा है सारे शहर में विकास का ढिंढोरा पीटने वाले मंत्री जी आपने आजादी के 75 वे साल में शहर की सड़कों की हालत ऐसी कर दी की 26 परिवारों के चिराग बुझ गए अंधेरा छा गया उन 26 परिवारों में। राखी पर दो दिन शहर के उन 26 परिवारों में फिर से कुरन्धन गूंज उठा। धारीवाल जी उन 26 परिवारों के लोग जो आपके अनियोजित विकास की भेंट चढ़ गए उनका हिसाब कौन देगा। 

गुंजल ने कहा कि आप अपने आप को विकास पुरुष कहलाने में लगे हो पर शहर की जनता जान चुकी है इसके पीछे कमीशन खोरी का एक बड़ा खेल चल रहा है। सारा शहर खुदा पड़ा है कोई गली नहीं जहां आसानी से व्यक्ति निकल जाए अब तो अखबारों में भी आने लग गया है। सावधान किसी को रेलवे स्टेशन जाना हो तो एक घंटा पहले निकले आज इधर का रास्ता बंद है उधर का चालू है। आपने नयापुरा चौराहे को प्रयोगशाला बना कर रख दिया, क्या हुआ उस गोबरिया बावड़ी के अंडरपास का जिसे रोज बैरिकेड लगाकर बंद करना पड़ रहा है। वही जेडीबी कॉलेज, पॉलिटेक्निक कॉलेज चौराहे सहित शहर के सभी चौराहों को भूल भुलैया व एक्सीडेंटल जोन बनाकर रख दिया। रोज दुर्घटनाएं हो रही हैं लगातार शहर के डॉक्टर बयान दे रहे हैं कि शहर की उधड़ी व टूटी पड़ी सड़कों के कारण शहर में ऑर्थाे व न्यूरो के मरीज बढ़ रहे हैं।

गुंजल ने कहा कि मंत्री जी आप बड़े बड़े चौराहे क्यों बना रहे हो किसने मांगे चौराहे स्मार्ट सिटी के ढाई हजार करोड़ रुपए को खुर्दपुर करने की जल्दी में आप शहर को रेड लाइट मुक्त तो नहीं बना सके पर भूल भुलैया व एक्सीडेंटल जोन युक्त शहर जरूर बना कर रख दिया है। चुनावों में रोजगार देने का वादा करने की बात की पर सत्ता में आते ही रोजगार देने वाली आईएल फैक्ट्री को ही बेच दिया। 50 साल तक जहा कोटा नहीं जाएगा, उन जमीनों को आज ही कौड़ियों के दाम बेच रहे हो। शहर में विकास के नाम पर लूट मची है यह मैं नहीं कह रहा हूं कोटा के तत्कालीन कलेक्टर ने अपने पेज पर लिखा है कि मैंने 50 प्रतिशत अधिक दर पर किये जाने वाले काम पर जस्टिफिकेशन मांगा तो उसके बदले मुझे तबादला आदेश थमा दिया गया।

रजत सिटी को मेन रोड पर लाने के लिए बिगाड़ा कुन्हाड़ी चौराहे को
गुंजल ने आरोप लगाते हुए कहा कि कुन्हाड़ी में यूआईटी के करोड़ों रुपए की बर्बादी इसलिए की जा रही है की चौराहे पर रजत सिटी में एक वंडरमार्ट व एक रिलायंस मार्ट है जो आपको दिखता है उसकी पहली व दूसरी मंजिल कि करीब अस्सी हजार स्क्वायर फीट जमीन की रजिस्ट्री उनके बेटे के नाम हो गई है बेटे की प्रॉपर्टी मेन रोड पर आ जाए प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ जाए इसलिए सारे रास्ते वंडर मार्ट के आगे से निकाल दिए पूरे चौराहे को दुर्घटना ग्रस्त क्षेत्र बना दिया। गुंजल ने कहा कि शहर में जो डेकोरेटिव लाइटे के खंभों लगाए जा रहे हैं उनकी कीमत तीस हजार रुपये हैं पर यूआईटी एक एक खम्भे का लाखों रुपए भुगतान कर रही है।

 गुंजल ने कार्यकर्ताओं से आह्वान करते हुए सरकार को चेतावनी दी कि शहर के गड्ढों को बंद कर दो, सड़कें सुधार दो वरना आज के बाद कार्यकर्ता घर-घर जाएंगे अलख जगायेंगे और सरकार को उखाड़ फेंकने तक चुप नहीं बैठेंगे। इससे पूर्व संचालन करते हुए पूर्व पार्षद बृजेश शर्मा नीटू ने अपने संबोधन में शहर में चल रहे कामों को अनियोजित विकास बताते हुए मंत्री पर गंभीर आरोप लगाए। प्रदर्शन में पूर्व मण्डल अध्यक्ष पंकज साहू, शिव नारायण शर्मा, किशन प्रजापति, प्रेम सिंह गोड, सत्तू लोधा, पार्षद बलविंदर सिंह बिल्लू, राकेश पुटरा, बीरबल लोधा, नवल हाड़ा, नंद लाल मेवाड़ा, पूर्व पार्षद विकास तँवर, इंद्र कुमार जैन, चंद्रप्रकाश सोनी, वरिष्ठ कार्यकर्ता पंडित अनिल औदिच्य, प्रताप भान सिंह, मनीष शर्मा, प्रशांत सक्सेना, घनश्याम कुमावत, प्रवीण अग्रवाल, राजेन्द्र महावर, कौशल मेहरा सहित हज़ारो कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
 

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

झालावाड़ सिटी से जूनाखेड़ा के मध्य 15 अगस्त से नियमित रूप से रेल सेवा आरम्भ

रेजोनेंस का नेशनल ‘स्टूडेंट टैलेंट रिवार्ड टेस्ट’ स्टार्ट के रजिस्ट्रेशन प्रारंभ,1करोड़ के मिलेंगे पुरस्कार