in ,

CM के लिए सचिन पायलट उपयुक्त, अशोक गहलोत सर्वमान्य नेता, उनकी अब दिल्ली में बढ़ रही डिमांड

जोधपुर। राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष खिलाड़ी लाल बैरवा )Khiladi Lal Bairwa, chairman of the Rajasthan Scheduled Castes Commission) मंगलवार को जोधपुर पहुंचे जहां सर्किट हाउस में मीडिया से बातचीत करते हुए एक बार फिर अशोक गहलोत को सर्वमान्य नेता मानते हुए मुख्यमंत्री के लिए सचिन पायलट को ही उपयुक्त (Only Sachin Pilot is suitable for Chief Minister) बताया है। खिलाड़ी बैरवा ने कहा कि अशोक गहलोत एक खूब लंबी पारी खेल चुके हैं और उनकी लगातार अब दिल्ली में डिमांड बढ़ रही है।

पृथ्वीराज चव्हाण के बयान को कोट करते हुए राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस राज में अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री रहते हुए डिप्टी सीएम सचिन पायलट रहे हैं युवा होने के साथ-साथ जन भावनाएं भी पायलट के साथ है, ऐसे में अशोक जी को देश का नेतृत्व करने के साथ जनता की भावना का सम्मान करना चाहिए और आलाकमान को भी इस बारे में विचार करना चाहिए। कांग्रेस में आलाकमान जन भावना से कार्य करते है।

ऐसे में युवा चेहरे को राजस्थान के नेतृत्व की कमान सौंपनी चाहिए और सर्वमान्य नेता अशोक गहलोत का दिल्ली में लाभ लेना चाहिए जिससे कांग्रेस और मजबूत होगी। जोधपुर आकर खिलाड़ी लाल बैरवा ने अपने बयानों से सचिन पायलट को जन्मदिन का तोहफा जरूर दे दिया। ऐसा पहली बार हुआ है कि जोधपुर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह नगर में किसी ने सचिन पायलट के मुख्यमंत्री बनने की पैरवी की हो।

जोधपुर पहुंचे बैरवा ने सर्किट हाउस में आमजन से भी मुलाकात की। उसके बाद विभाग के विभिन्न प्रकरणों पर अधिकारियों से भी चर्चा की। आयोग अध्यक्ष के अनुसार एट्रोसिटी के मामले और दलित समाज की जमीनों पर अतिक्रमण बड़ी ज्वलंत समस्या है ऐसे में एट्रोसिटी के मामलों पर तथ्यपरक काम करने की जरूरत है, जिसको लेकर सरकार को अवगत कराया गया है। जोधपुर में भी ऐसे मामलों को लेकर मुख्यमंत्री से पूर्व में भी चर्चा की जा चुकी है और आगे इस मामले में ठोस योजना बनाने की बात कही है।
 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

रक्त की कमी से जूझ रही गर्भवती को इस IAS अधिकारी ने दिया जीवनदान, दिया मानव सेवार्थ का बढ़ा संदेश

पायलेट को बधाई देने पहुंचे गहलोत समर्थक समेत 21 मंत्री-विधायक, फिर उठी सचिन को सीएम बनाने की मांग