in

Bundi : मौज मस्ती करने गये तो युवक ने मारा चांटा, बॉस को लगे थप्पड़ का बदला साथियों ने हत्या कर लिया

 बूंदी, (कलीमूद्दीन अंसारी)। जिले के दबलाना थाना क्षेत्र के शंकरपुरा गांव (Shankarpura village of Dablana police station area) में चाकू से गोदकर एक युवक की हत्या (murder of a young man by stabbing him with a knife) करने के सनसनीखेज मामले का खुलासा (Sensational case revealed) करते हुए पुलिस ने 5 आरोपियों को बापर्दा गिरफ्तार (Police arrested 5 accused Baparda) किया है। मुख्य आरोपी मोनू बैरवा अपने साथियों के साथ शंकरपुरा में मौज मस्ती (Fun in Shankarpura) के लिए गया था, जहां मृतक ने उसके थप्पड़ मार दिया (the deceased slapped him) था। इसके बाद बॉस को लगे चांटे का बदला लेने के लिए (To avenge the slap on the boss) साथियों ने मिलकर गोविंद कंजर की चाकू से गोदकर हत्या कर दी (The companions together killed Govind Kanjar by stabbing him with a knife.) थी। पुलिस ने संदिग्ध को डिटेन कर कि गई पूछताछ में वारदात के संबंध में कई अहम सुराग हाथ लगे। जिसके चलते पुलिस 48 घंटे में ही वारदात का खुलासा करने में सफलता अर्जित कि है।

जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव ने बताया कि मृतक के भाई रामभुज कंजर ने रिपोर्ट देकर 9 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। जिसमें बताया था कि इनमें से किसी हमलावर ने मृतक को फोन कर घर से बुलाया और गांव के बाहर पांड्या और गंगाराम के मकान के पास हमलावरों ने गोविंद कंजर पर हमला कर हत्या कर दी। शोर-शराबा सुनकर आसपास के लोग दौड़कर मौके पर पहुंचे तो हमलावर मौके से फरार हो गए। लेकिन वाहन चालक को गांव वालों ने मौके पर पकड़ लिया और कड़ाई से गांव वालों ने पूछताछ की तो चालक ने बताया कि हम सभी मृतक गोविंद कंजर को जान से मारने की योजना बनाकर वाहन में हथियार लेकर ग्राम शंकरपुरा में आए थे। जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया।

टीम में एक डिप्टी, 5 थानाधिकारी सहित करीब 100 पुलिस कर्मी रहे शामिल
मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव ने मौके पर पहुंचकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरी लाल के मार्गदर्शन और पुलिस उप अधीक्षक हिंडोली सज्जन सिंह के सुपरविजन, दबलाना थाना अधिकारी रामेश्वर सिंह, हिंडोली थाना अधिकारी मुकेश कुमार मीणा, नैनवा थाना अधिकारी सुरेंद्र सिंह चौधरी, सदर थाना अधिकारी अरविंद भारद्वाज, नमाना थाना अधिकारी धर्माराम, प्रभारी साइबर टीम हेड कांस्टेबल टीकम चंद, प्रभारी एमओबी घनश्याम सब उपनिरीक्षक के नेतृत्व में विभिन्न टीमों का गठन कर वारदात को खोलने की जिम्मेदारी दी गई। टीम में करीब 100 पुलिस कर्मी शामिल थे।

यह भी पढ़ेः-spa Center पर जिस्मफरोशी का धंधा, पुलिस ने युवक को बौगस ग्राहक बनाकर भेजा, 2 युवती व संचालक गिरफतार

ऐसे पहुंची पुलिस आरोपियों तक
पुलिस टीम को हत्या के कारणों का विश्लेषण कर अलग-अलग टास्क दिए, तकनीकी विवरण और घटनास्थल के मार्गों का सीसीटीवी फुटेज, आसूचनातंत्र, एफएसएल टीम, मुखबिर सूचना प्राप्त कर डिटेन किए गए संदिग्धों से पूछताछ की गई। संदिग्धों ने स्वयं द्वारा हत्या नहीं करना बताया और इसी बात पर अड़े रहे। इस पर टीम ने घटनास्थल पर हत्या के सीन का बार-बार रीक्रिएट कर हत्या के आरोपी तक पहुंचने का हर संभव प्रयास किया। डिटेन किये गए संदिग्धों से पूछताछ में सामने आए तथ्यों पर आगे पूछताछ व अनुसंधान में सामने आया कि मोनू बेरवा ठेकेदार निवासी सोरण हाल तिरुपति विहार सदर थाना बूंदी 1 फरवरी की शाम को मृतक से झगड़ा हुआ था, जिसमें मोनू बेरवा के साथ मृतक ने मारपीट कर चांटा मार दिया था। इसे मोनू बैरवा को इससे बहुत आघात पहुंचा और वह बदला लेने के लिए वापस बूंदी आया और अपने दोस्त अजय सैनी, दीपक वर्मा, हंसराज बेरवा, महावीर बेरवा के साथ रात को शराब पीकर मोनू बेरवा की कार से शंकरपुरा गांव पहुंचे। वहां मृतक को गांव में तलाश किया, उसके साथ मारपीट कर चाकू से हमला कर दिया। शोर शराबे की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तो हमलावर मौके से फरार हो गए। परिजनों ने 8-9 लोगों पर नामजद मार पीटकर हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया था। जिनसे पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे।

कबूल किया हत्या की वारदात को अंजाम देना
पूछताछ में आरोपी मोनू बैरवा ने बताया कि शाम को अजय, सोनू सिंह, मान सिंह सोरन से आ रहे थे तो शंकरपुरा में मृतक व तीन चार लोगों ने इनकी गाड़ी रुकवा कर बिना किसी कारण मोनू के साथ मारपीट कर चाटा मारा। इस बात पर मोनू को बहुत गुस्सा आया। फिर वह वापस बूंदी आये और शराब पीकर, नॉनवेज खाया और मारपीट का बदला लेने के लिए अजय सैनी, दीपक वर्मा, दीपक वर्मा और महावीर बैरवा की गाड़ी से शंकरपुरा पहुंचे। मृतक व 2-3 अन्य के साथ मारपीट की। जहां से दो-तीन जने तो भाग गए। आरोपी मृतक को मारपीट कर गुस्से में चाकू से गोद दिया घायल होने पर लहूलुहान हालत में गांव वालो आने पर छोड़कर वहां से भाग गए।

 इन्हंे किया गिरफतार
पुलिस ने उक्त मामले में मोनू बैरवा पुत्र किशन बैरवा उम्र 30 साल निवासी सोरण थाना दबलाना हाल तिरुपति विहार बूंदी, अजय सैनी उम्र 26 साल निवासी सोरण थाना दबलाना, दीपक वर्मा पुत्र भवानी शंकर खटीक 20 साल निवासी पुरानी पोस्ट ऑफिस की गली खटकड़ जिला बूंदी, हंसराज पुत्र घांसी लाल बैरवा, महावीर पुत्र मांगीलाल बेरवा 25 वर्ष निवासी सोरण थाना दबलाना को बापर्दा गिरफ्तार किया है। आरोपी दीपक वर्मा के खिलाफ गंभीर मारपीट का मामला विचाराधीन है। हत्या का खुलासा करने में महेश कुमार पाराशर हैड कानि, राकेश बैंसला कानि. थाना सदर जिला बून्दी की विशेष भूमिका रही है।

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dausa Robbery : बंदूक की नोंक पर बिजली निगम कार्यालय में लूट, बदमाशों ने गार्ड के हाथ पैर बांधे, ट्रांसफार्मरों से कॉपर चुराया, पिकअप भी ले उड़े

अतिक्रमण हटाने दलबल के साथ पहुंचे सभापति-पार्षद के बीच हुई तू-तू मैंमै, विरोध के चलते बैरंग लोटे