in

प्रदेश के 500 मदरसों में होंगे स्मार्ट क्लासरूम, 334 अवासीय विद्यालयों में डिजिटल लाइब्रेरी

जयपुर। राज्य सरकार ने प्रदेश के मदरसों को आधुनिक तकनीक से जोड़ने की शुरूआत (The beginning of connecting the madrasas of the state with modern technology) कर दी है, अब मदरसों में बेहतर शिक्षा के लिए इनमें स्मार्ट क्लासरूम जैसी विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। राजस्थान के मदरसों में अब विद्यार्थी ब्लैक बोर्ड की जगह स्मार्ट बोर्ड के जरिए तालीम हासिल करते दिखाई देंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए 13.10 करोड़ रुपए के अतिरिक्त बजट की स्वीकृति दी है।

राजस्थान मदरसा बोर्ड की ओर से पंजीकृत मदरसों में से 500 मदरसों में स्मार्ट क्लास रूम स्थापित किए जाने के लिए प्रति मदरसा 2.62 लाख रुपए खर्च होंगे। गहलोत ने बजट वर्ष 2022-23 में पंजीकृत मदरसों में स्मार्ट क्लास रूम, इंटरनेट की सुविधा चरणबद्ध रूप से कराए जाने की घोषणा की थी, इसी के तहत प्रथम चरण में आगामी वर्ष में 500 मदरसों को अपग्रेड किया जाएगा।

इसी प्रकार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वित्त एवं विनियोग विधेयक 2022-23 की चर्चा के दौरान प्रदेश के आवासीय विद्यालयों में डिजिटल लाइब्रेरी और अन्य आवश्यक सुविधाएं जुटाने की घोषणा की थी, इसी के तहत बुधवार को सीएम ने 334 अवासीय विद्यालयों में डिजिटल लाइब्रेरी के लिए 36.56 करोड़ रुपए की वित्तीय सहमति (Financial consent of Rs 36.56 crore for digital library in 334 residential schools) प्रदान की है।
 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खड़गे ने संभाली कांग्रेस की कमान, राजस्थान पर फैसले से पहले CWC और AICC महासचिवों ने दिए इस्तीफे

BSNL ऑफिस से केबल, बैटरी और डीजल की चोरी, 20 गांवों में मोबाइल व इंटरनेट सेवा ठप्प