in ,

राजस्थान कांग्रेस के नये प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा के सामने गहलोत-पायलट के टकराव को रोकना बड़ी चुनौती

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस के नया प्रभारी की तलाश पुरी (The search for the new in-charge of Rajasthan Congress is over) हो गई है। कांग्रेस हाई कमान ने पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा को राजस्थान का प्रभारी (Sukhjinder Singh Randhawa in charge of Rajasthan) बनाया है। गहलोत और पायलट के बीच टकराव (Confrontation between Gehlot and Pilot) को देखते हुए प्रदेश में पार्टी को एकजुट रखना और दोनों कैंप के नेताओं को साधने की सबसे बड़ी चुनौती है। क्योंकि रंधावा से पहले अविनाश पांडेय और अजय माकन राजस्थान की राजनीति के शिकार हो गए थे। अजय माकन ने इस्तीफा दे दिया था, जबकि अविनाश पांडेय को राजस्थान से हटाकर झारखंड का प्रभार दे दिया गया। ऐसे में राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले रंधावा के सामने दोनों कैंप के नेताओं के बीच होने वाले टकराव को रोकने की रहेगी। 

कांग्रेस के नवनियुक्त प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा मंलवार रात कोटा पहुंचेंगे। भारत जोड़ो यात्रा में कोटा में होंगे शामिल। चंडीगढ़ एयरपोर्ट से इंडिगो की फ्लाइट से जयपुर के लिए रवाना होंगे और रात 9ः45 बजे कोटा पहुंचेंगे। कोटा में सीएम गहलोत और राहुल गांधी से मिलने का कार्यक्रम है। प्रभारी बनने के बाद पहली बार रंधावा जयपुर आ रहे हैं। 

प्रियंका गांधी के करीबी माने जाते हैं रंधावा
पंजाब के कांग्रेस नेता रंधावा को प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है। रंधावा की नियुक्ति में प्रियंका गांधी के साथ राजस्थान के कांग्रेस विधायक और पंजाब के प्रभारी हरीश चौधरी की अहम भूमिका मानी जा रही है। रंधावा की पहली प्राथमिकता राजस्थान में निकल रही राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को किसी तरह के विवाद से बचाने की रहेगी। भारत जोड़ो यात्रा के बाद गहलोत और पायलट के बीच जारी सियासी घमासान को शांत कराने की रहेगी।

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि गहलोत समर्थक विधायकों से इस्तीफे वापस करवाना सबसे बड़ी चुनौती है। गहलोत समर्थक 91 विधायकों ने 25 सितंबर को स्पीकर सीपी जोशी को इस्तीफे सौंप दिए थे। इस मामले में स्पीकर सीपी जोशी को राजस्थान हाईकोर्ट का नोटिस भी मिल गया है। दो सप्ताह में जवाब मांगा है। माना जा रहा है कि नए प्रभारी इस्तीफा वाले विवाद का जल्द समाधान चाहते हैं। ऐसे में चर्चा है कि रंधावा आज देर शाम राजधानी जयपुर आ सकते हैं। 

गहलोत-पायलट ने दी बधाई
रंधावा को राजस्थान का प्रभारी नियुक्त करने पर सीएम अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने बधाई दी है। सीएम गहलोत ने ट्वीट कर कहा- राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी नियुक्त किए जाने पर पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री सुखजिंदर सिंह रंधावा को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि श्री सुखजिंदर सिंह रंधावा के मार्गदर्शन में प्रदेश में कांग्रेस एकजुट होकर और मजबूत होगी एवं आने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत सुनिश्चित होगी।
 सचिन पाटलट ने ट्वीट कर कहा- पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री सुखजिंदर सिंह रंधावा जी को राजस्थान कांग्रेस का प्रभारी नियुक्त किए जाने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आपके मार्गदर्शन में प्रदेश कांग्रेस को मजबूती मिलेगी।

जानिए कौन है रंधावा
राजस्थान कांग्रेस के नए प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा तीन बार के विधायक 63 वर्षीय रंधावा डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनके पिता संतोख सिंह पंजाब कांग्रेस के दो बार पीसीसी चीफ बने थे। अमरिंदर सिंह की सरकार में सुखजिंदर सिंह रंधावा जेल और सहकारिता के प्रभारी मंत्री थे। सुखजिंदर सिंह रंधावा अमरिंदर सिंह के करीबी विश्वासपात्र थे, लेकिन उनकी निष्ठा तब नवजोत सिद्धू की ओर झुक गई और सुखजिंदर राज्य में कप्तान-विरोधी अभियान का हिस्सा बन गए। अमरिंदर सिंह को हटाने के बाद मुख्यमंत्री पद की दौड़ में भी उनका नाम चला था पर बाद में उनको चन्नी सरकार में डिप्टी सीएम बनाया गया। सरकार के साथ रंधावा को संगठन में भी काम करने का अनुभव है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस के वह उपाध्यक्ष और महासचिव भी रह चुके हैं। 

नए प्रभारी का राजस्थान कनेक्शन
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के नए प्रभारी का राजस्थान कनेक्शन भी है, प्रभारी सुखविंदर सिंह रंधावा, बूंदी जिले की बूंदी विधानसभा क्षेत्र के अल्फा नगर गांव से है। अल्फा नगर  इनका पैतृक गांव है। प्रभारी सुखविंदर सिंह रंधावा के दादा सरदार दिलीप सिंह रंधावा यहां खेती किसानी का कार्य करते थे, उनकी भावनाएं अल्फा नगर गांव से जुड़ी हुई है।

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान : भारत जोड़ो यात्रा में सीएम गहलोत और सचिन पायलट राहुल गांधी से कदम से कदम मिलाकर चले

राजस्थान में ACB को महिला सूचना सहायक के ठिकानों पर सर्च के दौरान मिली करोड़ों की अघोषित संपत्ति