in

क्या आ गई मंदी? या है कोई और वजह, इन कंपनियों ने लोगों को नौकरी से निकाला!

दुनिया पर आर्थिक मंदी का खतरा (threat of economic recession) बढ़ता जा रहा है। उस पर महंगाई की दोहरी मार पड़ रही है। इसका असर अमेरिका से लेकर चीन तक दिखाई देने लगा है। इन सबके बीच दुनियाभर में बड़ी-बड़ी कंपनियों में छंटनी देखने को मिल रही है। Amazon, Walmart और Ford के बाद अब चीन की बड़ी कंपनी ने एक साथ 10,000 कर्मचारियों की छंटनी कर दी (China’s big company laid off 10,000 employees at once) है।

रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी टेक कंपनी अलीबाबा (Alibaba) ने अपने 9,241 से ज्यादा कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। कि इस छंटनी के बाद Alibaba में कुल कर्मचारियों की संख्या लगभग 245,700 रह गई है। इससे पहले हाल ही में रिटेल सेक्टर की दिग्गज कंपनी Walmart ने भी एक झटके में अपने 200 कर्मचारियों को बाहर कर दिया था। कंपनी ने बढ़ती लागत और कमजोर मांग का हवाला दिया था। 

चीन दुनिया का सबसे बड़ा ई-कॉमर्स मार्केट (China is the world’s largest e-commerce market) है और इस क्षेत्र में अलीबाबा सबसे बड़ी कंपनियों में शामिल है। बीते गुरुवार को बिजनेस टुडे पर प्रकाशित रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लिमिटेड को पहली बार किसी तिमाही में फ्लैट रेवेन्यू ग्रोथ देखने को मिली है।

कंपनी का रेवेन्यू जून 2022 के अंत में बिना किसी बदलाव के 205.56 अरब युआन या 30.43 अरब डॉलर पर स्थिर रहा था। हालिया छंटनी के संबंध में आई मीडिया रिपोर्ट की मानें तो कंपनी अपने खर्च में कटौती और कार्यक्षमता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। 

मंदी के साये के बीच जैक मा की कंपनी अलीबाबा के सीईओ डैनियल झांग ने भी लागत में कटौती की बात कही थी। झांग ने कहा था कि कोरोना के मामले फिर से बढ़ने, भू-राजनीतिक हालात एक कंपनी को प्रभावित कर सकते हैं। इस समय हम केवल एक ही काम कर सकते हैं और वह है खुद को बेहतर बनाने पर ध्यान देना। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की दूसरी टेक कंपनियों में भी छंटनी का सिलसिला बड़े स्तर पर शुरू हो चुका है।

पिछले दिनों एमेजॉन ने भी अपने वर्कफोर्स में एक लाख की कटौती की थी। वहीं वॉलमार्ट के बाद और भी कई बड़ी कंपनियां इस तरह का कदम उठाने की तैयारी कर रही है। रिपोर्टों की मानें तो आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती के बीच Ford Motor करीब 8,000 कर्मचारियों की छंटनी की योजना बना रही है। फेसबुक की पेरेंट कंपनी Meta Platforms Inc- ने भी नियुक्तियों में 30 फीसदी की कमी का प्लान बनाया है। इसके अलावा गूगल ने हायरिंग धीमी कर दी है।

क्रंचबेस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सिलिकॉन वैली में कई दूसरी टेक कंपनियों ने भी पिछले महीने बड़ी छंटनी की है। इन कंपनियों ने करीब 32,000 कर्मचारियों को निकाला है। इनमें Twitter] TikTok] Shopify] Netflix जैसी कंपनियां शामिल हैं। 

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

BSP से कांग्रेस में आए MLA संदीप यादव-वाजिब अली को राजनीतिक नियुक्ति देकर दूर की नाराजगी

राजस्थान छात्रसंघ चुनाव को लेकर तीन छात्र चढ़े पानी टंकी पर, फिर इतनी ही लड़कियो ने प्रदर्शन कर दी चेतावनी