in , ,

भारत जोड़ो यात्रा के 100 दिन पूरा होने पर राहुल करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, जयपुर में सांस्कृतिक कार्यक्रम

सवाई माधोपुर। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा मंगलवार को जीनापुर से शुरू हुई। यात्रा के सुबह के सत्र में सूरवाल बाइपास तक हजारों की संख्या में लोग यात्रा में शामिल हुए। स्थानीय लोगों में यात्रा को लेकर जबरदस्त उत्साह दिखा। इस दौरान चलते हुए राहुल गांधी ने दो समूह के साथ बातचीत की। मुस्लिम युवाओं के एक समूह ने राहुल गांधी के समक्ष केंद्र सरकार द्वारा मौलाना आजाद नेशनल फैलोशिप बंद किए जाने सहित कई मुद्दे उठाए।

Rahul will hold press conference on completion of 100 days of Bharat Jodo Yatra, cultural program in Jaipur

दूसरी बातचीत दलित युवाओं के एक समूह के साथ थी। इस समूह के युवाओं ने विशेष रुप से भाजपा सरकार द्वारा 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान एससी/एसटी समुदाय के लोगों पर दर्ज मुकदमों एवं जमीन से जुड़े मुद्दे उठाए। दोनों समूहों की बातों को गंभीरता से सुनने के बाद राहुल गांधी ने साथ चल रहे प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा से राज्य से जुड़े मुद्दों पर मुख्यमंत्री से बात करके कार्रवाई करने को कहा। बातचीत के बाद दोनों समूहों ने बताया कि राहुल गांधी ने ध्यान पूर्वक उनकी बातें सुनी और जो मामले राज्य सरकार के अधीन आते हैं उनपर कार्रवाई का भरोसा दिलाया। 

सुबह 11 बजे कांग्रेस सांसद एवं पार्टी के संचार प्रभारी जयराम रमेश ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और अन्य नेताओं के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उन्होंने बताया कि सवाई माधोपुर में जिस तरह से भारत जोड़ो यात्रा का स्वागत हुआ है वैसा बहुत कम राज्यों में हुआ है। सुबह 5ः45 से करीब 10ः00 बजे तक जबरदस्त हूजूम यात्रा के स्वागत के लिए आया था। इसमें 60 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं थी। इस दौरान रमेश ने जानकारी दी कि 16 दिसंबर को दोपहर 1ः00 बजे दौसा जिले में राहुल गांधी प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करेंगे। पहले यह प्रेस कॉन्फ्रेंस 18 दिसंबर को होने वाली थी लेकिन अब 16 तारीख को होगी, क्योंकि इस दिन भारत जोड़ो यात्रा के 100 दिन पूरे होंगे। 16 दिसंबर को ही शाम के 6ः30 बजे जयपुर में भारत जोड़ो कंसर्ट का आयोजन किया जाएगा। इसमें मुख्य गायिका सुनिधि चौहान होंगी। 16 दिसंबर को हिमाचल के सभी कांग्रेस विधायक और वहां के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू भी भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होंगे। 19 दिसंबर को अलवर में एक विशाल रैली का आयोजन किया जाएगा। 

इस अवसर पर राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि राहुल जी के नेतृत्व में बच्चे, वृद्ध, युवा, महिला तथा सभी धर्म एवं जाति के लोग एक साथ भारत जोड़ो यात्रा में चल रहे हैं। यहां कोई भेदभाव नहीं है। यही वह भारत है जिसकी परिकल्पना आजादी के दीवानों ने की थी, महात्मा गांधी जी ने की थी। पिछले 8 सालों में नफरत का जो माहौल बना है उसने देश को नुकसान पहुंचाया है। निराशा का माहौल बना। लोगों को लग रहा था कि उनकी कोई सुनने वाला नहीं है। ऐसे में राहुल गांधी जी से उम्मीद जगी है। लोगों को लग रहा है कि कोई तो है जो उनकी सुनने निकाल है। डोटासरा ने आगे कहा कि यात्रा के दौरान राजस्थान सरकार से संबंधित जो मुद्दे आ रहे हैं उन सभी मुद्दों को हम नोट कर रहे हैं। भारत जोड़ो यात्रा समाप्त होने के बाद हम तय करेंगे कि कैसे इनका समाधान किया या बजट में कैसे इन्हें शामिल किया जाए। सवाई माधोपुर के विधायक दानिश अबरार ने कहा कि हमें याद रखना चाहिए कि राहुल गांधी अपने सीने में कितना दर्द लेकर चल रहे हैं। उन्होंने कम उम्र में अपनी दादी और अपने पिता को खोया है। उसके बावजूद उनके दिल में नफरत नहीं है। वह सीने में दर्द लिए प्यार बांटते चल रहे हैं।  

कांग्रेस विधायक इंदिरा मीणा ने बताया कि 12 दिसंबर को महिलाएं राहुल गांधी के साथ चलीं। यात्रा के दौरान उन्होंने जिस बारीकी से महिलाओं की समस्याओं, परेशानियों और उनकी बातों को सुना वह दिखाता है कि उनकी नजर में सब बराबर है। वह सबको साथ लेकर आगे बढ़ना चाहते हैं। राहुल गांधी ने नफरत छोड़ो, भारत जोड़ों का जो नारा दिया है उसमें गहरा संदेश छुपा हुआ है। सभी को इस संदेश को समझने की जरूरत है। भाजपा की जन आक्रोश यात्रा पर चुटकी लेते हुए मीणा ने कहा कि उनकी यात्रा में ‘आक्रोश‘ जरूर हो सकता है लेकिन ‘जन‘ नहीं है। चार पांच लोगों के साथ वो यात्रा निकाल रहे हैं। 

पूर्व सांसद और मंत्री नमो नारायण मीणा ने कहा कि हर यात्रा का एक मकसद होता है। आजादी के पहले गांधी जी ने जो यात्रा की थी उसका अलग मकसद था। भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य शांति, प्रेम एवं भाईचारे का संदेश देना और आम लोगों से जुड़े मुद्दों को उठाना है। आज पढ़े-लिखे युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। किसानों को उनके फसल की सही कीमत नहीं मिल रही है। मोदी सरकार के सभी वादे झूठे साबित हुए हैं। सरकार की गलत नीतियों से हर वर्ग के लोग परेशान हैं। सभी राहुल गांधी को उम्मीद भरी नजरों से देख रहे हैं। उन्हें लगता है कि यह आदमी झूठ नहीं बोलता। यही हमारी समस्याओं का समाधान कर सकता है। 

एक पत्रकार ने जब सवाई माधोपुर में अमरूद के प्रोसेसिंग प्लांट को लेकर सुझाव दिया तो जवाब में जयराम रमेश ने कहा कि वह अभी ही प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राहुल गांधी से इस बारे में बात करेंगे। राज्य के अमरूद उत्पादन में इस जिले का लगभग 65 प्रतिशत योगदान इसलिए यहां जरूर एक अमरूद का प्रोसेसिंग प्लांट होना चाहिए। जयराम ने मजाकिया लहजे में कहा कि देश में अमृत काल का तो पता नहीं लेकिन यहां अमरुद काल जरूर है। 

दोपहर में राहुल गांधी ने राजस्थान में दलित समुदाय के विकास एवं कल्याण के लिए काम कर रहे अंबेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी, सेंटर फॉर दलित राइट्स, राजस्थान बाल्मीकि मंच, उड़ान मानव सेवा समिति, आगाज फाउंडेशन, राइट्स रिसॉर्स सेंटर, अंबेडकर स्टडी सेंटर – जय नारायण व्यास यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधियों एवं इस समुदाय से जुड़े कई अन्य लोगों से बातचीत की। बातचीत के दौरान इन लोगों ने राजस्थान कांग्रेस सरकार द्वारा दलितों के उत्थान के लिए किए जा रहे कार्यों की सराहना की और कुछ बेहतर सुझाव दिए। राहुल गांधी के समक्ष कुछ मांगे भी रखी गई। राहुल गांधी ने उनकी सभी बातें सुनी और साथ बैठे मुख्यमंत्री से राज्य स्तर की जो समस्याएं थी उनके समाधान का अनुरोध किया।

राहुल गांधी ने कहा कि हिंदुस्तान को कॉन्स्टिट्यूशन दलितों ने दिया इसे कभी भूलना नहीं चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि हिंदुस्तान का जो पावर स्ट्रक्चर है, चाहे वो प्रशासन हो, जुडिशियरी हो या मीडिया हो उनमें एससी,एसटी और ओबीसी की भागीदारी उतनी नहीं है जितनी होनी चाहिए। बाबासाहेब अंबेडकर के दिखाए रास्तों पर चलकर ही इस स्थिति को बदला जा सकता है। अंबेडकर जी ने कभी नहीं कहा था कि उनकी पूजा की जाए। उन्होंने इसका विरोध किया था। लेकिन आज दलित समाज के लोग उनकी पूजा तो कर रहे हैं लेकिन उनके दिखाए रास्ते पर उस तरह से नहीं चल रहा है जिस तरह चलना चाहिए। उन्होंने वहां मौजूद सभी से बाबासाहेब के दिखाए रास्ते पर चलने को कहा। यात्रा के शाम के सत्र में भी मुख्य रूप से युवाओं का दो समूह राहुल गांधी के साथ चला। पहला समूह चार्टर्ड अकाउंटेंट्स एवं अंत्रप्रेनोर का था। दूसरे समूह में आदिवासी समुदाय के युवा थे।

 

Written by CITY NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भारत जोड़ो यात्रा का असर : राहुल गांधी के कहने पर मंत्री चांदना ने अक्षिता का इलाज कराने की पहल की

बूंदी और कोटा में दिखेगा बीएसएफ का शौर्य प्रदर्शन, स्पीकर बिरला की पहल पर जवान दिखाएंगे हैरतअंगेज स्टंट्स